अभी अभी :

    अवधेश कुमार

    अवधेश कुमार

    अवधेश कुमार, यह नाम पत्रकारिता जगत में किसी परिचय का मोहताज नहीं। भारतीय राजनीति, अंतरराष्ट्रीय राजनीति, आतंकवाद, चुनाव, भारत-पाक सम्बन्ध, अर्थव्यवस्था, रक्षा, परमाणु तथा सामाजिक विषयों पर अपनी बेबाक लेखनी के लिए वे देश के कोने-कोने में जाने जाते हैं। एक बहुमुखी पत्रकार, राजनीतिक विश्लेषक के साथ ही वे एक प्रभावशाली वक्ता भी हैं। समाचार चैनलों तथा सार्वजनिक सभाओं में वे विभन्न विषयों पर सटीक और धाराप्रवाह अपने विषय रखते हैं।  

    समाचार चैनलों में नियमित संवाद के माध्यम से विश्लेषण करनेवाले अवधेश कुमार के लेख देश के अनगिनत राष्ट्रीय अख़बारों, साप्ताहिक, मासिक पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते हैं।  

    post-1

    पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों की तिथियों की घोषणा के साथ सरकार द्वारा 1 फरबरी को बजट पेश करने के निर्णय का विपक्षी दलों द्वारा विरोध किया जा रहा है। विपक्षी दलों का एक प्रतिनिधिमंडल चुनाव आयोग से मिला। ऐन चुनाव की प्रक्रिया के बीच बजट पेश करने ..

    post-1

    तमाम विरोधों और सवालों को दरकिनार करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुंबई तट पर स्थित अरब सागर के एक द्वीप पर छत्रपति शिवाजी स्मारक की आधारशिला रख दिया। मोदी होवरक्राफ्ट के जरिए अरब सागर में उस जगह पहुंचे जहां शिवाजी की मूर्ति लगाई जानी है तथा ..

    post-1

    तो सारे कयासों पर विराम लग गया। पाकिस्तान में जनरल राहील शरीफ को सेवानिवृत्ति मिल गई एवं लेफ्टिनेंट जनरल कमर जावेद बाजवा को उनकी जगह नया थल सेना प्रमुख नियुक्त कर दिया गया। अपने तीन कार्यकाल में प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने पांचवे थल सेना अध्यक्ष को ..

    post-1

    संसदीय लोकतांत्रिक व्यवस्था में राजनीति श्रेष्ठतम कर्म होना चाहिए, क्योंकि इसके माध्यम से लोगों की नियति निर्माण की भूमिका आपको मिलती है। वास्तव में राजनीति अपने मौलिक रूप में समाज सेवा ही है। लेकिन संसदीय लोकतंत्र के ऐसे निहित दोष हैं जो राजनीति ..

    post-1

    तो अमेरिकी चुनाव परिणामों ने ज्यादातर सर्वेक्षणों को गलत साबित कर दिया है। 19 में से केवल दो अंतिम सर्वेक्षणों में रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप को डेमोक्रेट उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन से आगे बताया गया था। चुनाव से दो दिनों पहले सभी बड़े चुनाव ..

    post-1

    इस समय भले किसी तरह सपा के अंदर के संघर्ष को शांत कर दिया जाए, लेकिन जिन कारणों से यह इतने बड़े बवण्डर में परिणत हुआ उसे देखते हुए मानना कठिन है कि शांति स्थायी हो सकती है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव एवं शिवपाल सिंह यादव दोनों कह रहे हैं कि नेता जी ..

    post-1

    केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह द्वारा यह कहने के बाद कि वर्ष 2018 तक भारत-पाकिस्तान की सीमा को पूरी तरह से सील कर दिया जाएगा इस पर बहस छिड़ गई है। एक पक्ष का मानना है कि यह कहना जितना आसान है करना उतना ही कठिन। उनके अनुसार पाकिस्तान से लगे सीमा क्षेत्रों ..

    post-1

    यह उम्मीद तो थी कि देश के अंदर अपनी आंतरिक परेशानियों से ग्रस्त नवाज शरीफ संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मामले को उठाएंगे लेकिन अपने भाषण को ही वे भारत विरोध पर केन्द्रित कर देंगे इसकी संभावना किसी ने भी व्यक्त नहीं की थी। अपने 19 मिनट से थोड़ा ज्यादा ..

    post-1

    हमारे माननीय सांसद एकजुट होकर प्रतिनिधिमंडल के रूप में जम्मू-कश्मीर जाएं और वहां सभी पक्षों से बातचीत कर शांति स्थापना का रास्ता तलाशें इससे किसी को क्या आपत्ति हो सकती है। सामान्यतः ऐसे प्रयासों का स्वागत ही किया जाना चाहिए। जबसे कश्मीर में हिंसा ..

    post-1

    पहली नजर में यह सुनकर थोड़ा धक्का लग सकता है कि 57 मुस्लिम देशों के समूह ‘ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कोऑपरेशन’ या ओआईसी यानी इस्लामिक सहयोग संगठन ने पाकिस्तान का कश्मीर मामले पर समर्थन किया है। इस्लामाबाद में इस संगठन के महासचिव इयाद बिन अमीन मदनी ने ..

    इस्लाम30/08/2016
    post-1

    भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर नरेन्द्र मोदी सरकार जब यह कहती है कि हम दुनिया की सबसे तेज बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था हैं तो विरोधी कई आंकड़ों से उसे काटने की कोशिश करते हैं। कुछ अर्थशास्त्री भी इस पर प्रश्न उठा देते हैं। कुल मिलाकर इस समय देश में भारत ..

    post-1

    पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव परिणामों में आश्चर्य का कोई बड़ा पहलू नहीं है। सारे सर्वेक्षण पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की पुनर्वापसी की भविष्यवाणी कर रहे थे तो केरल में वाममोर्चा के तथा असम में भाजपा के सरकार बनाने की। हां, तमिलनाडु में अवश्य ..

    post-1

    अब यह किंतु परंतु से परे एक तथ्य है कि गृहमंत्री के रूप में पी. चिदम्बरम ने इशरत जहां को 2009 में स्वच्छ चरित्र का प्रमाण पत्र स्वयं दिया था। न उसमें गृह सचिव की कोई भूमिका थी और न ही महाधिवक्ता की। भले चिदम्बरम जो दावा करें लेकिन फाइल सामने आने ..

    post-1

    शायद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की यह नियति है कि उसके अधिकारी कुछ भी बोलेंगे उस पर विवाद होगा ही। भले वो बातें चाहे जितनी संतुलित हों, जितने तार्किक हों और जितने सहमतिकारक हों, उनमें से उतने अंश निकाल लिए जाएंगे जिनसे वो असंतुलित, अतार्किक ..

    post-1

    विजय माल्या का नाम सुनते ही हमारे जेहन में सरेआम विलासितापूर्ण व मौज मस्ती का जीवन जीने वाले शख्स का चेहरा सामने आता है। एक ऐसा शख्स, जो अरबों रुपया पार्टियों पर खर्च करता था, जो अपने दोस्तों को विशेष विमान से क्रिकेट मैच दिखाने विदेश ले जाता था, ..

    post-1

    सांसद में पी. चिदम्बरम पिता पुत्र जिस ढंग से हंगामे के शिकार हो रहे हैं उनमें हर दृष्टि से तार्किकता है। अन्नाद्रमुक सांसदों के हंगामों को केवल राजनीति मानने वाले दोनों पिता पुत्र के अपकर्मों को समझने की कोशिश करें। कार्ती चिदम्बरम हालांकि सफाई ..

    post-1

    इस समय दिल्ली पुलिस द्वारा छात्रों की पिटाई का एक ऐसा वीडियो चल रहा है जिसे देखकर पहली नजर में किसी को भी गुस्सा आ जागएा। इसके विरोध में आइसा नामक छात्र संगठन ने दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया है। इसके साथ गैर भाजपा राजनीतिक दलों में ..

    post-1

    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 15 अगस्त, 2015 को लाल किले से कहा था कि क्या हम “स्टार्ट अप इंडिया, स्टैंड अप इंडिया” में दुनिया के नंबर एक नहीं हो सकते। उसके बाद से इस योजना पर तेजी से काम आरंभ हुआ और अंततः औपचारिक रूप से उन्होंने इसकी शुरुआत कर ..

    post-1

    मुफ्ती मोहम्मद सईद इस ढंग से अचानक चले जाएंगे यह कल्पना किसी को हो भी नहीं सकती थी। लेकिन मृत्यु सच है और यह कभी भी आ सकती है। इसको रोकना हमारे आपके वश में नहीं है। एक भला चंगा व्यक्ति, विपरीत विचारधारा की पार्टी के साथ मिलकर सरकार चला रहा था और ..

    post-1

    नेशनल हेराल्ड मुकदमे के फैसले पर केवल सोनिया और राहुल गांधी परिवार का ही नहीं, पूरी कांग्रेस पार्टी का अस्तित्व निर्भर है। आखिर कांग्रेस आज जो कुछ भी पार्टी के रूप में शेष है उसकी एकता और उम्मीद के ये दोनों ही आधार हैं। इनपर दाग का मतलब पूरी कांग्रेस ..

    post-1

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ब्रिटेन दौरे की उपलब्धियां वाकई भारत के लिए कई मायनों में महत्वपूर्ण हैं। यह आशंका निर्मूल साबित हुई है कि उनकी यात्रा पर बिहार चुनाव का साया नजर आएगा। न तो ब्रिटिश सरकार के स्वागत में कहीं कोई कमी दिखी न स्वयं मोदी ..

    post-1

    शरीफ ओबामा के निमंत्रण पर वहां गए थे। संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन के दौरान भी ये बैठक हो सकती थी, लेकिन अमेरिका ने रणनीति के तहत इसे नहीं होने दिया तथा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ शिखर वार्ता की। अभी अमेरिका ने शरीफ की यात्रा को द्विपक्षीय राजनयिक..

    post-1

    सुधीन्द्र कुलकर्णी इस समय कुछ लोगों के हीरो बन गए हैं। वे कालीख पुते चेहरे से ही पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री खुर्शीद मसूद कसूरी के साथ पत्रकार वार्ता करने आए और शिवसेना पर पूरा हमला किया। एक उदारवादी विचारधारा वाले व्यक्ति की भाषा में उन्होंने ..

    वेध 20/10/2015
    post-1

    हार्दिक पटेल को गुजरात सरकार ने हिरासत में लिया और रिहा भी कर किया। बिना अनुमति के वह अपने साथियों के साथ एकता यात्रा निकाल रहे थे। हालांकि पहले उनने इसे उल्टा दांडी मार्च नाम दिया था। यानी गांधी जी ने नमक सत्याग्रह के लिए साबरमती से दांडी तक मार्च ..

    post-1

    हमारा देश ऐसा है जहां अर्थ का अनर्थ करके किसी भी विषय को आराम से विवादित बनाया जा सकता है और मीडिया की कृपा से उस पर बहस भी हो सकती है। गुजरात सरकार के गोसेवा और गोचर विकास बोर्ड की ओर से जन्माष्टमी पर अहमदाबाद के बापू नगर क्षेत्र में लगाए गए एक ..

    post-1

    तो पाकिस्तान ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार स्तर की बातचीत रद्द कर दी। उसके पास इसके अलावा विकल्प क्या था? हालांकि उसने इसका दोष भारत पर मढ़ा है, किंतु सच पूरी दुनिया के सामने है। भारत की पूर्व शर्त को बात रद्द करने का आधार बनाना झूठ के सिवा कुछ है ..

    post-1

    उच्चतम न्यायालय द्वारा मजहब, जाति, भाषा, समुदाय और नस्ल के आधार पर वोट मांगने संबंधी फैसले को एक पक्ष ऐतिहासिक मान रहा है तो दूसरे पक्ष का कहना है कि इससे बहुत ज्यादा अंतर नहीं आएगा। वैसे भी इस फैसले पर विचार करते समय हमें यह ध्यान रखना होगा कि ..

    post-1

    जिन लोगों ने अगस्ता वीवीआईपी हेलिकॉप्टर दलाली मामले पर नजर रखी है उनके लिए सीबीआई द्वारा पूर्व वायुसेना प्रमुख एअर मार्शल एसपी त्यागी सहित तीन लोगों की गिरफ्तारी कतई अस्वाभाविक नहीं है। उनके साथ गिरफ्तार गौतम खेतान को तो प्रवर्तन निदेशालय ने दो ..

    post-1

    जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला के इस बयान से देश में आक्रोश फैला हुआ है कि पाक अधिकृत कश्मीर उनके बाप का है क्या? यह बयान पूरे देश को चुभ गया है। हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के नेता अगर पूरे कश्मीर को आजाद या पाकिस्तान का भाग मानते हैं ..

    post-1

    उच्चतम न्यायालय द्वारा सतलुज यमुना संपर्क नहर (एसवाइएल) पर दिए गए फैसले के बाद जो स्थिति पैदा हो गई है वह वाकई चिंताजनक है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है तो राज्य में कांग्रेस के विधायकों ..

    post-1

    भोपाल केन्द्रीय कारागार से भागे स्टुडेंट इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया (सिमी) के 8 आतंकवादियों के मारे जाने पर जो बवण्डर खड़ा करने की कोशिश हुई है उससे किसी को आश्चर्य नहीं होना चाहिए। भारत में याकूब मेनन से लेकर अफजल गुरु तक पर बवण्डर खड़ा किया गया, ..

    post-1

    जब 2011 में ब्रिक्स की स्थापना हुई तो उसका उद्देश्य स्पष्ट था। दुनिया की उभरती हुई अर्थव्यवस्थाएं एकजुट होकर वैश्विक स्तर पर काम करें, विकास का ईंजन बने, वैश्विक वित्तीय ढांचा में अनुकूल बदलाव लाएं तथा नए हालात के अनुरूप नई विश्व आर्थिक व्यवस्था ..

    post-1

    तो इस्लामाबाद में नौ नवंबर से होने वाले दो दिवसीय दक्षेस शिखर सम्मेलन को भले टलना कहा जाए यह व्यवहार में रद्द होना है। जो हालात हैं उनमें पाकिस्तान में सम्मेलन होने की संभावना नहीं है। भारत की ओर से जैसे ही यह घोषणा की गई कि न प्रधानमंत्री नरेन्द्र ..

    post-1

    समस्याएं, संकट या चुनौतियां हमें परेशान जरुर करती हैं, लेकिन कई बार उन्हीं से ऐसे समाधान भी निकल जाते हैं जिनकी हम कल्पना नहीं करते। हां, यह तभी संभव है जब हम संकट को समाधान की दृष्टि से देखें और लाख विरोधों, आलोचनाओं के बावजूद उस पथ पर डटे हुए ..

    post-1

    यह कहना मुश्किल है कि वर्तमान सरकार की कश्मीर संबंधी नीतियों में ऐसा आमूल बदलाव आ गया है जिसे एअर मार्शल ने व्यक्त कर दिया है। भारत कश्मीर समस्या के समाधान के लिए सैन्य बल के प्रयोग की दिशा में विचार कर रहा है इसके भी अभी संकेत नहीं है। अरुप राहा ..

    post-1

    कश्मीर पर संसद के दोनों सदनों में हुई बहस से निश्चय ही देश को इस मामले में संतोष हुआ होगा कि सरकार एवं विपक्ष दोनों के स्वर लगभग समान थे। हालांकि विपक्ष के कुछ नेताओं ने सुरक्षा बलों की कथित ज्यादती का मुद्दा उठाया लेकिन कुल मिलाकर सबका कहना था ..

    post-1

    जरा पिछले वर्ष अक्टूबर और वर्तमान समय के माहौल की तुलना कीजिए। पिछले वर्ष अक्टूबर के आरंभ में दादरी का बिसाहड़ा गांव नेताओं के जमावड़े का केन्द्र था। वहां जाने की होड़ ऐसी थी मानो जो वहां न गया उसकी सेक्युलर प्रतिबद्धता संदेहों के घेरे में आ जाएगी। ..

    post-1

    जब भारत की राजधानी में हार्ट आफ एशिया सम्मेलन हो और उसमें पाकिस्तान का प्रतिनिधिमंडल हो तो संभावना होती है कि दोनों देशों के बीच मुलाकात और कुछ बातचीत हो। पाकिस्तान के विदेश सचिव एजाज अहमद चौधरी और भारत के विदेश सचिव जयशंकर मुलाकात हालांकि केवल ..

    post-1

    दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के व्यक्तित्व पर अनेक लोग शोध कर रहे हैं। कारण, उनके व्यक्तित्व में इतने अंतर्विरोध सामने आए हैं कि यह कहना कठिन हो गया है कि उनको किस तरह का व्यक्ति माना जाए। हालांकि उनके साथ एक समय कंधा से कंधा मिलाकर काम ..

    post-1

    फ्रांस के बाद यूरोपीय देश बेल्जियम पर बड़ा आतंकी हमला होना सामान्य घटना नहीं है। ब्रसेल्स केवल बेल्ज्यिम की राजधानी नहीं है, यह यूरोपीय संघ का मुख्यालय है यानी आप इसे यूरोपीय संघ की राजधानी भी कह सकते हैं। इसके साथ यह अमेरिकी नेतृत्ववाले दुनिया के ..

    post-1

    ष्ट्रपति अभिभाषण पर संसद के दोनों सदनों में हुई चर्चा तथा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जवाब इस समय जन चर्चा का विषय है तो इसे स्वाभाविक और सकारात्मक मानना चाहिए। खासकर निदा फाजली के शेर की पंक्तियां कि “सफर में धूप तो होगी, जो चल सको तो चलो।..

    post-1

    रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने बजट पेश करने के पूर्व कहा था कि बजट देश और रेल के हित में होगा। उन्होंने अपने बजट भाषण में कहा कि प्रधानमंत्री का दर्शन रेलवे को विकास का ईंजन बनाने का है और हम उस पर काम कर रहे हैं। उनके अनुसार बजट का मुख्य उददेश्य रेल ..

    post-1

    हमने देखा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किस तरह एक परिवार की बात कहकर सोनिया गांधी एवं राहुल गांधी पर हमला किया तो जवाब में राहुल गांधी ने भी प्रतिहमला किया। नरेन्द्र मोदी ने कहा कि हम तो गरीबों के लिए आम आदमी के लिए काम करना चाहते हैं लेकिन ..

    post-1

    भारत के सामने मुंबई हमले के मामले में हुई गिरफ्तारियों तथा मुकदमों की परिणति का निराशाजनक उदाहरण है। इसके आलोक में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पहल पर जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ हो रही कार्रवाई की आने वाली खबरों से हम ज्यादा उत्साहित नहीं ..

    post-1

    एक वर्ष की विदाई और दूसरे वर्ष के आविर्भाव में क्षण का अंतर होता है। यही स्थिति यह साबित करता है कि किसी नए वर्ष के आगमन से पुराने वर्ष की चुनौतियों, समस्याओं, उपलब्धियों, सफलताओं, विफलताओं पर पूर्ण विराम नहीं लगता। वास्तव में वे ही नए वर्ष के आधार ..

    post-1

    जमीयत-उलेमा-ए-हिन्द द्वारा एक साथ 75 शहरों में आईएसआईएस और आतंकवाद के खिलाफ किए गए प्रदर्शन का हर विवेकशील व्यक्ति स्वागत करेगा। यह पहली बार है जब किसी मुस्लिम संगठन ने इस प्रकार खुलकर आईएसआईएस एवं आतंकवाद के खिलाफ इतने व्यापक स्तर पर प्रदर्शन किया ..

    इस्लाम30/11/2015
    post-1

    बिहार चुनाव में जद (यू), राजद एवं कांग्रेस की इतनी बड़ी जीत एवं भाजपा गठजोड़ की ऐसी पराजय की कल्पना शायद ही किसी ने की होगी। चुनाव एवं उसके बाद अपनी जीत का दावा करने वाले नीतीश कुमार एवं लालू प्रसाद यादव को भी वाकई ऐसी जीत का आभास था या नहीं कहना ..

    post-1

    साहित्य अकादमी ने एक हजार से ज्यादा लोगों को पुरस्कार दिया हुआ है जिसमें से केवल 25 ने वापस करने का ऐलान किया है। हो सकता है दो चार और कर दें। साहित्य अकादमी को आराम से इनका पुरस्कार ले लेना चाहिए। जो राशि नहीं लौटा रहे हैं उनसे राशि भी मांग लेनी ..

    राय29/10/2015
    post-1

    वैसे तो दादरी बिसहाड़ा की दिल दलहाने वाली घटना पर जैसी घिनौनी राजनीति हो रही है उससे देशभर में विवेकशील लोगों के अंदर क्षोभ पैदा हो रहा है। किंतु, उत्तर प्रदेश सरकार के वरिष्ठ मंत्री आजम खान ने तो सारी सीमाओं को ही तोड़ दिया है। देश के किसी भी व्यक्ति ..

    post-1

    तो बिहार चुनाव की औपचारिक दुंदुभि चुनाव आयोग ने बजा दी है। औपचारिक इसलिए क्योंकि राजनीतिक दलों ने तो चुनावी रणभूमि में पहले से ही बिगुल फूंका हुआ है। चुनाव आयोग की घोषणा की प्रतीक्षा राजनीतिक दलों ने नहीं की। केवल उम्मीदवारों की घोषणा नहीं हुई, ..

    post-1

    ये कैसे रिश्ते हैं! समाज की हाई फाई मानी जाने वाली इन्द्राणी मुखजी द्वारा अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या से उच्चवर्गीय सोशियलाइट समूह सकते में है। एक ग्लैमरस, मीडिया प्रबंधन की दुनिया की जानी मानी हस्ती, हमेशा सुर्खियों में रहने वाली इन्द्राणी कैसे ..

    post-1

    थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक में हुए विस्फोट में 27 लोगों का तत्क्षण मरना एवं 100 से ज्यादा लोगों का घायल होना किसी छोटे विस्फोट की परिणति नहीं हो सकती। अबतक इस इस घटना की जिम्मेवारी किसी आतंकी संगठन ने नहीं ली है, इसलिए केवल कयास ही लगाया जा सकता ..