अभी अभी :

    डॉ.नीलम महेंद्रा

    डॉ.नीलम महेंद्रा

    डॉ.नीलम महेंद्रा (ग्वालियर), समाज में घटित होनेवाली घटनाओं पर लिखती हैं। भारतीय समाज में उसकी संस्कृति के प्रति खोते आकर्षण को पुनः स्थापित करने में अपने लेखकीय योगदान के प्रति वह सजग हैं। इसलिए सामाजिक घटनाक्रम पर वे सूक्षम दृष्टि रखती हैं। अबतक उनके अनेक लेख अख़बारों व साप्ताहिक में प्रकाशित हो चुके हैं।

    फेसबुक पर “यूं ही दिल से” उनका पेज है, साथ ही ब्लॉगस्पॉट (drneelammahendra.blogspot.in) के माध्यम से अपने विचारों को सोशल मीडिया में प्रसारित करती हैं।

     

    post-1

    दीपावली की रात जेल से भागे 8 आतंकवादी जो कि प्रतिबंधित संगठन सिमी से ताल्लुक रखते थे उन्हें मध्य प्रदेश पुलिस 8 घंटे के भीतर मार गिराने के लिए बधाई की पात्र है। बधाई स्थानीय लोगों को भी जिन्होंने पुलिस की मदद कर के देशभक्ति का परिचय देते हुए किसी ..

    post-1

    29 सितंबर, रात 12.30 बजे भारत के स्पेशल कमान्डो फोर्स के जवान जो कि विश्व का सबसे बेहतरीन फोर्स है, Ml-17 हेलिकॉप्टरों से LOC के पार पाक सीमा के भीतर उतरते हैं। 3 किमी के दायरे में घुस कर भिंबर, हाँट स्प्रिंग, केल और लीपा सेक्टरों में सर्जीकल ..

    post-1

    पंडित जगदम्बा प्रसाद मिश्र की इस कालजायी कविता के ये शब्द हमें उन दिनों में आज़ादी की महत्ता एवं उसे प्राप्त करने के लिए चुकाई जानेवाली कीमत का एहसास कराने के लिए काफी हैं। यह वह दौर था जब देश का हर बच्चा बूढा और जवान देशprem की अगन में जल रहे थे। ..

    post-1

    अभिनेता सलमान खान द्वारा दिए गए एक बयान पर आजकल देशभर में काफी बवाल मचा हुआ है ऐसा नहीं है कि पहली बार किसी शख्सियत की ओर से महिलाओं के विषय में कुछ आपत्तिजनक कहा गया हो। इससे पूर्व चाहे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालूप्रसाद यादव हों जो बिहार की ..

    post-1

    इक्कीसवीं सदी का भारत, किसने सोचा था कि दुनिया इतनी सिमट जाएगी और वो भी इतनी कि मानव की मुठ्ठी में समा जाएगी? जी हां, आज इन्टरनेट से सूचना और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में सोशल मीडिया के द्वारा वो क्रांति आई है जिसकी कल्पना भी शायद कुछ सालों पहले ..

    post-1

    अगर रहीमदास के इस दोहे को हम समझ लेते जिसे हमें बचपन में पढ़ाया गया था तो आज न हमारी धरती प्यासी होती न हम। जल हरियाली और खुशहाली दोनों लाता है। लेकिन आज हमारे देश का अधिकांश हिस्सा पिछले चालीस सालों के सबसे भयावह सूखे की चपेट में है।..

    post-1

    आज पूरे देश में चीनी माल को प्रतिबंधित करने की मांग जोर शोर से उठ रही है। भारतीय जनमानस का एक वर्ग चीनी माल न खरीदने को लेकर समाज में जागरूकता फैलाने में लगा है वहीं दूसरी ओर समाज के दूसरे वर्ग का कहना है कि यह कार्य भारत सरकार का है। जब सरकार चीन ..

    post-1

    एक बहुत ही खूबसूरत बगीचा था, माली की नज़र बचाकर कुछ बच्चे रोज फूल तोड़ लेते थे। एक दिन माली ने उन्हें रंगे हाथों पकड़ लिया। अब उनमें से सबसे बुद्धिमान एक बालक ने सोचा कि खुद को बचाना है तो आक्रमण करना चाहिए, और वह चिल्लाने लगा कि अगर फूलों से खेलने ..

    post-1

    फारसी में मुगल बादशाह जहाँगीर के शब्द! कहने की आवश्यकता नहीं कि इन शब्दों का उपयोग किसके लिए किया गया है… जी हाँ, कश्मीर की ही बात हो रही है। लेकिन धरती का स्वर्ग कहा जानेवाला यह स्थान आज सुलग रहा है। प्राचीन काल में हिन्दू और बौद्ध संस्कृतियों ..

    post-1

    21 जून को योग दिवस अन्तराष्ट्रीय स्तर पर आयोजित हो रहा है। 2014 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रयासों के फलस्वरूप 21/6/2015 को योग की महिमा को सम्पूर्ण विश्व में स्वीकार्यता मिली और इस दिन को सभी देशों द्वारा योग दिवस के रूप में मनाया जाता ..

    post-1

    8 सितंबर, 2006 महाराष्ट्र का नासिक जिला मुम्बई से 290 किमी दूर "मालेगाव" दिन के सवा एक बजे हमीदिया मस्जिद के पास शबे बारात के जुलूस में बम विस्फोट हुए जिसमें 37 लोग मारे गए और 125 घायल हुए। 29 सितम्बर, 2008 मालेगांव पुन: दहला इस बार 8 लोगों की मृत्यु ..