अभी अभी :

    वीरेन्द्र सिंह परिहार

    वीरेन्द्र सिंह परिहार

    राष्ट्रमयी विचारधारा से अनुप्रेरित लेखक वीरेन्द्र सिंह परिहार अर्जुन नगर सीधी (म.प्र.) के निवासी हैं। वीरेन्द्र सिंह अपने महाविद्यालयीन जीवन में विद्यार्थी परिषद में कार्यरत रहे। विगत 25 वर्षों से वे देशभर के विविध अख़बारों एवं पत्र-पत्रिकाओं में नियमित लेखन कर रहे हैं। एक कर्मठ स्तम्भ लेखक के रूप में वे जाने जाते हैं।

    वीरेंदर सिंह के लेखन मूल विषय राजनीतिक है, तथापि सामाजिक, सांस्कृतिक एवं साहित्यिक विषयों पर भी वे लिखते हैं। वर्ष 2005 में सिटीजन्स पीस एवं इंडियन एक्सप्रेस के संयुक्त तत्वावधान में “हम जैसे नहीं” नागरिकों की दुविधा निबंध प्रतियोगिता में सात चयनीत निबंधों में एक। उनकी 3 पुस्तकें - “सवाल देश चलाने का नहीं”, “देश का नेता कैसा हो” तथा “नई दिशा नया दौर” प्रकाशित हो चुकीं हैं, तथा “व्यवस्था बदलने के लिए” नामक पुस्तक प्रकाशनाधीन हैं।    

    post-1

    सी.बी.आई. ने 17 हजार करोड़ रू. के रोजवैली चिटफंड घोटाले में कथित संलिप्तता के आरोपी सुदीप बंदोपध्याय को गिरफ्तार क्या किया कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनकी पार्टी तृणमूल कॉग्रेस ने सारी मर्यादाएं तोड़ दी। ज्ञातव्य है कि 30 दिसम्बर ..

    post-1

    उच्च न्यायालयों में न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए सर्वोच्च न्यायालय के कॉलेजियम द्वारा भेजे गए 77 नामों में से 34 नामों की स्वीकृति केन्द्र सरकार द्वारा दिए जाने से ऐसा लगने लगा था कि न्यायपालिका और सरकार के बीच बर्फ गलने लगी है, और अंतोगत्वा दोनों ..

    post-1

    यह तो सभी को पता है कि भारत, पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद से बुरी तरह पीड़ित है। देश में कई बार ऐसी मांग उठी कि भारत को आगे बढ़कर पी.ओ.के. स्थित आतंकवादियों के शिविरों को नष्ट करना चाहिए। इसके लिए बराबर इजरायल का उदाहरण दिया जाता रहा जो बहुत छोटा देश ..

    post-1

    अरविंद केजरीवाल भारतीय राजनीति में एक ऐसा नाम है, जिसके बारे में लोगों में ऐसी उम्मीद जगी थी कि जो प्रचलित राजनीति से हटकर नई किस्म की राजनीति व्यवस्था परिवर्तन का पक्षधर है। इसी के चलते जब दिल्ली विधानसभा में केजरीवाल की आम आदमी पार्टी अर्थात ‘आप’ ..

    post-1

    इन दिनों अगस्ता वेस्टलैण्ड हेलीकाप्टर में रिश्वतखोरी को लेकर कुछ ऐसा ही माहौल व्याप्त है, जैसा कि राजीव गांधी के दौर में बोफोर्स तोपों को लेकर था। यह मामला 07 अप्रैल को तब गर्माया, जब इटली के मिलान की अपीलीय अदालत ने उपरोक्त हेलीकाप्टरों की बिक्री ..

    post-1

    लोग इस बात को लेकर हैरत में हैं कि क्या वही अरविंद केजरीवाल हैं- जो अन्ना हजारे अथवा सिविल सोसइटी के भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के प्रमुख सिपहसालार थे। जो कहा करते थे कि सी.बी.आई. एवं दूसरी जांच एजेंसियों को पूरी तरह स्वतंत्र होना चाहिए और यदि इन ..

    post-1

    ऐसी खबरे हैं कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पुनः दिल्ली के लिए जनलोकपाल लाने जा रहे हैं। पुनः से आशय यह कि जब वर्ष 2014 में केजरीवाल दिल्ली के मुख्यमंत्री बने थे, तब भी उन्होंने कुछ ऐसा दिखाने का प्रयास किया था, कि वह दिल्ली के लिए जनलोकपाल ..

    post-1

    सीरिया, इराक, यमन और अफगानिस्तान में गृहयुद्ध के चलते शरणार्थियों का रेला यूरोपीय देशों की ओर सतत् बढ़ रहा है। यूरोपियन यूनियन के देश यह चर्चा करने को बाध्य हो रहे हैं कि वह इन देशों के कितने शरणार्थियों को जगह देने मे सक्षम हैं। नि:संदेह इन शरणार्थियों ..

    post-1

    एक ईसाई दम्पत्ति के तलाक प्रकरण की सुनवाई करते हुए गत दिनों सर्वोच्च न्यायालय ने केन्द्र सरकार से यह जानना चाहा कि क्या वह देश में समान नागरिक संहिता लागू करने की इच्छुक है। सर्वोच्च न्यायालय ने इसके साथ यह भी कहा-‘‘हम लोगों को समान नागरिक संहिता ..

    post-1

    1947 में देश के स्वतंत्र होने और उसके बंटवारे के पश्चात पाकिस्तान आए दिन जम्मू-कश्मीर को लेकर यह रट लगाए रहता है कि वहां के लोगों को आत्म-निर्णय का अधिकार होना चाहिए। आए दिन वह इस बात को लेकर संयुक्त राष्ट्र संघ में भी मांग करता रहता है।..

    post-1

    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक ने आरक्षण के संबंध में पूछे गये एक सवाल के जवाब में कहा कि एक समिति बनाई जानी चाहिए जो यह तय करे कि किन लोगों को और कितनों दिनों तक आरक्षण की आवश्यकता है। उन्होंने यह भी कहा कि ऐसी समिति में राजनीतिज्ञों ..

    post-1

    मोदी सरकार द्वारा 8 नवम्बर से 1,000 एवं 500 रू. पर लागू नोटबंदी की अवधि 30 दिसम्बर को समाप्त हो चुकी है। नोटबंदी के विरोध में जब विरोधी दलों ने तमाम तरह की कटु आलोचना करना शुरू कर दिया और सड़को पर उतरने लगे। तब प्रधानमंत्री मोदी ने जनता से कहा कि ..

    post-1

    साल 2014 के संसदीय चुनाव के दौरान भाजपा ने 1955 के भारतीय नागरिकता कानून में संशोधन का वायदा किया था। बीते असम विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी नागरिकता कानून में संशोधन की बात की थी। ऐसा माना जाता है कि संसद के ..

    post-1

    अभी हाल में ही 15 सितम्बर को सर्वोच्च न्यायालय ने केन्द्र सरकार को जजों की नियुक्तियों और स्थानान्तरण के मामले में की जा रही हीला-हवाली पर कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए चेतावनी दी। सर्वोच्च न्यायालय के चीफ जस्टिस टी.एस. ठाकुर को इस बात को लेकर गंभीर ..

    post-1

    कांग्रेस नेता एवं मध्य प्रदेश (म.प्र.) के भूतपूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने 19 मई को पांच राज्यों के चुनाव-परिणाम आने के पश्चात यह कहा था कि कांग्रेस को अब आत्म-परीक्षण की नहीं, बल्कि सर्जरी की जरूरत है। सर्जरी भी कोई छोटी-मोटी नहीं बल्कि मेजर ..

    post-1

    नए साल की शुरुआत में कांग्रेस पार्टी की ओर से आयोजित एक प्रेस कान्फ्रेंस में बोलते हुए पूर्व वित मंत्री पी. चिदम्बरम ने सरकार पर आर्थिक मोर्चे पर नाकामी का आरोप लगाया। उन्होंने यह भी कहा कि एन.डी.ए. ने चुनाव के दौरान ज्यादा नौकरियों, एफ.डी.आई. में ..

    post-1

    गत दिनों उत्तर प्रदेश के ताकतवर मंत्री आजम खान ने कहा कि बाबरी मस्जिद विध्वंस देश में आतंकवाद शुरू होने की सबसे बड़ी वजह है। उनका यह भी कहना है कि 06 दिसम्बर, 1992 को अयोध्या की उक्त घटना के बाद ही देश ने आर.डी.एक्स. और ए.के.47 के बारे में जाना।..

    post-1

    गत दिनों कर्नाटक सरकार द्वारा दीवाली के अवसर पर टीपू सुल्तान की 266 वीं जयन्ती मनाई गई। इस अवसर पर विश्व हिंदु परिषद, कैथोलिक ईसाईयों और कई लोगों द्वारा इस आयोजन का कटु विरोध किया गया। यहां तक कि कर्नाटक बंद का आयोजन किया गया जिसमें कुछ लोगों की ..

    post-1

    डॉ.भागवत का कथन पिछड़े और दलितों के विरोध में नहीं, बल्कि सचमुच उनके पक्ष में था। खासकर वर्तमान दौर में जब आरक्षण की कतार में घुसने के लिए कई संपन्न और ताकतवर जातियां पूरी तरह प्रयासरत हैं। वह चाहे महाराष्ट्र में मराठा हो, हरियाणा में जाट हों, एवं ..

    post-1

    नेताजी सुभाषचन्द्र बोस से संबंधित पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा जो 64 फाइलें सितंबर में सार्वजनिक की गई, उसमें यह पूरी तरह प्रमाणित हो गया कि नेताजी की मृत्यु 1945 में विमान दुर्घटना मे नहीं हुई। यद्यपि इस मामले मे सी.आई.डी. बहुत पहले साक्ष्य इकठ्ठा ..

    post-1

    सितम्बर के अंतिम सप्ताह में जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अमेरिका की यात्रा पर गए और वहां अपनी मां की याद कर रोए, तो कांग्रेस पार्टी की प्रतिक्रिया थी कि मोदी स्वतः तो अपनी मां के सम्मान एवं उनकी सुख-सुविधाओं का ध्यान नहीं रखते नहीं, और इस तरह से ..

    विशेष05/10/2015