आज डोलकुन इसा के बारे में समाचार मिला कि भारत ने धर्मशाला में हो रहे एक सम्मलेन के लिए इन्हें वीज़ा दिया है. समाचार पढ़कर बड़ा मजा आया. हमारा देश भी कूटनीतिक चालें चल सकता हैं, यह देखकर अच्छा लगा. भाजपा सरकार के आने से पहले तक तो ऐसी चीजे हम सपने में ही सोच सकते थे..!

ये डोलकुन इसा, चीन के शिनजियांग उईघर स्वायत्त प्रदेश का, चीन द्वारा घोषित मुसलिम आतंकवादी हैं. शकल सूरत से लगता नहीं, पर चीन का मानना है कि वो आतंकवादी हैं.

भारत ने इसा को  वीज़ा देने की आज घोषणा की. 28 अप्रैल से 1 मई तक भारत के धर्मशाला में एक बृहद सम्मेलन का आयोजन किया गया है. इसमें, चीन से भगाए गए सारे प्रमुख नेता आयेंगे और चीन में लोकतंत्र की स्थापना कैसे हो, इस पर चिंतन मनन करेंगे. दलाई लामा भी इसमें उद्बोधन देंगे.

जाहिर है, इन सबसे चीन क्रोधित होगा.. और तिस पर भारत डोलकुन इसा को वीसा देकर बुला रहा हैं... चीन की त्यौरियां चढ़ना स्वाभाविक हैं.. क्योंकि शायद पहली बार चीन को इतना जबरदस्त उत्तर मिला है.

अभी तक तो चीन अपने मन की करता आया था. उसे लगता था, ये डरपोक भारत कर-कर के क्या करेगा..? दो चार चिट्ठी भेज देगा, विरोध की. बस्स..! इसलिए चीन ने पकिस्तान के साथ खूब पींगे बढाई. भारत के विरोध में मदद की. भारत को घेरने की कोशिश की. लेकिन भारत की चुप्पी बनी रहती थी..!

नहीं. लेकिन अब नहीं.

पिछले सप्ताह चीन ने यूनाइटेड नेशन्स में मौलाना मसूद अजहर को आतंकवादी घोषित करने के भारत के प्रस्ताव के विरोध में अपना वीटो लगा दिया. उसे लगा, भारत क्या करेगा..?

लेकिन यह बदला हुआ भारत हैं. हमारे रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर और रक्षा सलाहकार अजित डोभाल के चीन प्रवास के दौरान ही भारत ने डोलकुन इसा को भारत में वीज़ा देने का निर्णय लिया. इसे कहते हैं, समर्थ राष्ट्र की स्वयंभू विदेश नीति..!

चीन के शिनजियांग-उईघर प्रान्त में 1 करोड़ से ज्यादा मुस्लिम रहते हैं, और वे स्वायत्तता की मांग कर रहे हैं. डोलकुन इसा उनके नेता हैं. सन 1997 में चीन से पलायन कर चुके हैं.

चीन की ‘वांटेड’ की सूची में वे शीर्ष पर हैं. इंटरपोल ने उन पर ‘रेड कार्नर नोटिस’ जारी किया हैं. फिलहाल, सन 2007 से वे जर्मनी के नागरिक के रूप में ‘विश्व उईघर कांग्रेस’ के महासचिव का कार्य देख रहे हैं.

मसूद अजहर पर चीन के रवैय्ये पर यह जबरदस्त दहला भारत ने मारा हैं... मुझे उत्कंठा है, चीनी शीर्ष नेताओं के ‘लाल-पीले’ चेहरे देखने की..!!