नई दिल्ली, जनवरी 10: पाँच राज्यों में विधानसभा चुनावों को देखते हुये केन्‍द्रीय माध्‍यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 10वीं और 12वीं की परीक्षा एक सप्‍ताह आगे बढ़ा दी गयी है। लेकिन परीक्षा के परिणाम समय पर ही आएंगे। बोर्ड के मुताबिक दसवीं की परीक्षा के लिए 16 लाख 67 हजार छात्रों ने नामांकन किया है। जबकि करीब 11 लाख छात्र बारहवीं की परीक्षा में शामिल होंगे।बता दें की उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए परीक्षा की तारीखें तय की गईं हैं। सीबीएसई बोर्ड ने परीक्षा की तिथियों को लेकर काफी सावधानीपूर्वक विचार किया और इन्हें तय समय से एक सप्ताह आगे बढ़ाने का निर्णय किया है ताकि परीक्षा कार्यक्रम में कोई बाधा न आए। हर साल सीबीएसई जनवरी के पहले सप्ताह में परीक्षाओं की घोषणा करता है जो मार्च के पहली तीन तारीखों से शुरू होती हैं लेकिन इस बार इसे सप्ताह भर टाला गया है।

सीबीएसई की जनसम्पर्क अधिकारी रमा शर्मा ने बताया कि बोर्ड ने इस बात का पूरा ध्यान रखा है कि महत्वपूर्ण विषयों की परीक्षा तिथियों के बीच व्यावहारिक अंतर रहे ताकि छात्रों को हर विषय की तैयारी के लिए पर्याप्त समय मिले। उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश बोर्ड के निर्वाचन आयोग से अनुमति बगैर कार्यक्रम घोषित करने और तत्काल बाद आयोग द्वारा उसे निरस्त करने के बाद सीबीएसई ने परीक्षा तिथि की घोषणा रोक दी थी।

सीबीएसई की 10वीं कक्षा की परीक्षा के कार्यक्रम के अनुसार, 10 मार्च को हिन्दी कोर्स-ए और बी, 22 मार्च को विज्ञान, 25 मार्च को संस्कृत, 30 मार्च को अंग्रेजी, 3 अप्रैल को गणित, 5 अप्रैल को फाउंडेशन आफ इंफार्मेशन टेक्नोलॉजी, 8 अप्रैल को सामाजिक विज्ञान और 10 अप्रैल को गृह विज्ञान जैसे विषयों की परीक्षा ली जाएगी।