नई दिल्ली, जनवरी 10: सीमा पर खड़े एक बीएसएफ जवान द्वारा शेयर किए गए विडियो पर केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने संज्ञान लेते हुये उचित कार्यवाही का आदेश दिया है। दरअसल सोशल मीडिया पर जंगल की आग की तरह फैले इस जवान ने सुरक्षाबलों को दी जाने वाली सुविधाओ पर सवालिया निशान उठाते हुये अपनी दशा बया की थी।
जवान के वीडियो को सोशल मीडिया पर हाथों हाथ लिया गया और 24 घंटों में इसकी जानकारी गृहमंत्री राजनाथ सिंह के पास पहुंच गई। राजनाथ सिंह ने मामले की गंभीरता को देखते हुए ट्वीट किया। उन्होने जानकारी दी कि जवान का वायरल वीडियो देखा जा चुका है और इस बाबत गृहसचिव को जल्द से जल्द रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है साथ ही उचित कदम उठाने के निर्देश भी दिए जा चुके हैं।

वायरल हो रहा यह वीडियो सीमा पर तैनात एक जवान का है। जिसे ड्यूटी के दौरान ही रिकॉर्ड किया गया है। इस वीडियो में सेना का जवान बोल रहा है कि हम लोग बारिश हो, बर्फबारी हो या कड़ाके धूप हो। हर मौसम में देश की रक्षा करते हैं। फिर भी हमको मिलने वाली व्यवस्थाएं नगण्य हैं। मैं किसी किसी सरकार पर आरोप नहीं लगा रहा है। मैं बस जवानों की समस्या बता रहा हूं। वीडियो में जवान कह रहा रहा कि उनकी साथ अनदेखी सरकार नहीं बल्कि फौज में शामिल उच्च अधिकारी कर रहे हैं।Embeded Objectसरकार खाने के लिए सामान तो भेजती है, लेकिन उच्च अथिकारियों की मिलीभगत से वो जवानों तक नहीं पहुंच पाता है। नाश्ते में एक पराठा मिलता है। खाने में मिलने वाली दाल में केवल हल्दी और पानी ही रहता है। इसी खाने की बदौलत वे 11 घंटे खड़े होकर लगातार ड्यूटी कैसे करते हैं ये केवल हमे ही पता है। उच्च अधिकारियों से तंग यह जवान पीएम से इस मामले दखल करने का आग्रह कर रहा है।

साथ ही जवान ने इस वीडियो से जान को खतारा भी बताया है। इन तीनों वीडियो को जारी करते वक्त जवान बोल रहा है कि वो ऐसा करके उच्च अधिकारियों से बहुत बड़ा खतरा मोल ले रहा है। यहां तक उसने जान को खतरा भी बताया है। यह वीडियो बीएसएफ जवान खुद को 29 बटालियन का बता रहा है। अपना नाम तेज बहादुर यादव बताया है। वीडियो पोस्ट भी इसी नाम के आईडी से किया गया है।