नई दिल्ली, जनवरी 10: सड़क परिवहन, राजमार्ग एवं शिपिंग मंत्री नितिन गडकरी ने उन्होंने देश के युवाओं से जनता के पास जाने और उन्हें सड़क सुरक्षा के मुद्दों के बारे में शिक्षित करने के लिए कहा है। उन्होने सोमवार को इंडिया गेट से सड़क सुरक्षा दौड़ को झंडी दिखाई। इस दौड़ का आयोजन सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने सड़क सुरक्षा के बारे में आम जनता में सड़क सुरक्षा के प्रति जागरुकता पैदा करने तथा सड़क सुरक्षा आंदोलन में उनकी सक्रिय भागीदारी के लिए किया गया।
इस अवसर पर गडकरी ने अगले कुछ वर्षों में सड़क दुर्घटनाओं और उससे जुड़ी मृत्यु की संख्या को 50 प्रतिशत तक घटाने के बारे में अपने मंत्रालय की प्रतिबद्धता को दोहराया। उन्होंने बताया कि उनका मंत्रालय इस उद्देश्य को पूरा करने के लिए सड़क सुरक्षा हेतु इंजीनियरिंग, प्रवर्तन, शिक्षा और आपातकालीन देखभाल जैसे मुद्दों पर कार्य कर रहा था। उन्होंने कहा कि पहचाने गए सर्वाधिक दुर्घटना वाले स्थलों को सुधारने का कार्य पूरे जोरों पर है। इस उद्देश्य के लिए 11,000 करोड़ रुपये की राशि निर्धारित की गई है।

उन्होंने लोगों से कहा कि वे ऐसे स्थलों की रिपोर्ट मंत्रालय से करें जहां बहुत अधिक दुर्घटनाएं होती रहती हैं ताकि सड़कों के इंजीनियरिंग दोषों को दूर करने के लिए कदम उठाए जा सकें। गडकरी ने बताया कि फ्लाईओवर, अंडरपास, क्रैश बैरियर, रंबल स्ट्रिप्स, यातायात चिन्हों को उचित तरीके से लगाया गया था ताकि आदि दुर्घटनाओं में कमी लाई जा सके।

गडकरी ने उम्मीद जताई कि मोटर वाहन (संशोधन) विधेयक, जांच के लिए परिवहन, पर्यटन और संस्कृति विभाग से संबंधित संसदीय स्थायी समिति के पास है। इसे संसद के अगले सत्र में पारित कर दिया जाएगा। यह विधेयक कड़े दंड, इलेक्ट्रॉनिक प्रवर्तन की अनुमति देने, फिटनेस प्रमाण पत्र और लाइसेंसिंग व्यवस्था में सुधार लाने और अच्छी तथा मान्य आईटी सक्षम प्रवर्तन प्रणालियां उपलब्ध कराकर सड़क सुरक्षा के मुद्दों का निपटान करेगा।

मंत्रालय द्वारा जारी किए गए अच्छे और बेहतर दिशा-निर्देशों का उल्लेख करते हुए गडकरी ने जनता से दुर्घटना के शिकार लोगों की मदद के लिए आगे आने का आह्वान किया ताकि उनके तुरंत प्रयास और आपातकालीन देखभाल से अनमोल जीवन बचाए जा सकें। उन्होंने लोगों से यातायात नियमों का पालन करने और सड़कों पर अपनी जिम्मेदारी दिखाने का भी आह्वान किया।