काबुल, जनवरी 11: अफगानिस्‍तान की राजधानी काबुल समेत तीन शहरों में मंगलवार को हुये सिलसिलेवार आत्मघाती धमाकों में कम से कम 50 नागरिकों की मौत हो गयी है। दो आत्‍मघाती बम धमाका काबुल में संसद परिसर में हुआ जिसमे तीस लोग मारे गए और लगभग 80 लोग घायल हुए हैं। जानकारी के मुताबिक तालिबान ने इस हमले की जिम्‍मेदारी ली है। वहीं प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने हमलों की कड़ी शब्दो में निन्‍दा की है।कंधार में गवर्नर के दफ्तर में हुए विस्‍फोट में कम से कम ग्‍यारह लोगों की मौत हो गई। इस हमले में प्रांतीय गवर्नर और संयुक्‍त अरब अमारात के राजदूत समेत 18 लोग घायल हुए हैं। हमले के समय दफ्तर में एक बैठक चल रही थी। वहीं हेलमंड प्रांत की राजधानी लश्‍करगढ़़ में हुए बम विस्‍फोट में दस लोग मारे गए जिनमें आम नागरिक और सैनिक शामिल थे।

अफगानिस्‍तान के दक्षिणी हेलमंद सूबे में बम धमाके में सात लोगों की मौत हो गई। सूबे के पुलिस प्रमुख जनरल आगा नूर केम्‍तोज ने बताया कि धमाका उस अथितिगृह को निशाना बनाकर किया गया जिसका इस्‍तेमाल खुफिया एजेंसी अपने कार्यालय के रूप में करती है। गृहमंत्रालय के प्रवक्‍ता सिदीक सिद्दीकी ने बताया कि एक हमला कार बम से किया गया था।Embeded Objectप्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने इस आतंकी हमले की कड़ी निन्‍दा की। प्रधानमंत्री ने ट्वीट करके निर्दोष व्‍यक्तियों की मृत्यु पर शोक व्‍यक्‍त किया और कहा कि भारत आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में अफ़गानिस्‍तान के साथ खड़ा है। वहीं अमेरिका ने भी अफगान संसद के बाहर हुये हमले की घोर निंदा की है।