नई दिल्ली, जनवरी 11: भारत और केन्या ने बुधवार को उत्पादकता बढ़ाने हेतु कृषि क्षेत्र में दो समझौतों पर हस्ताक्षर किया। अपने प्रतिनिधि मण्डल के साथ तीन दिन के भारत दौरे पर आये केन्‍या के राष्‍ट्रपति उरू केन्‍याता ने प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के साथ द्विपक्षीय वार्ता कर कई अहम मुद्दो पर सहमति जताई। इसदौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि केन्या के विकास के लिए भारत सरकार हरसंभव मदद करने के लिए तैयार है।सयुक्त प्रेस वार्ता में प्रधानमंत्री मोदी ने राष्‍ट्रपति उरू का स्वागत करते हुये कहा कि लोकतंत्र में साझा विश्‍वास भारत और केन्‍या के आपसी संबंधों को मजबूत करते हैं। उन्‍होंने कहा कि भारत और केन्‍या ने उपनिवेशवाद के खिलाफ एक साथ लड़ाई लड़ी है। भारत और केन्या स्वास्थ्य सेवाओं, पर्यटन, सूचना प्रौद्योगिकी, कृषि और ऊर्जा जैसे उद्योगों को बढ़ावा और प्रोत्साहन देना चाहते हैं।Embeded Objectप्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि दोनों देशों के बीच कारोबार को बढ़ावा देना हमारी प्राथमिकता होगी। उन्‍होंने कहा कि शिक्षा सहित कई क्षेत्रों में भारत और केन्‍या के बीच बेहतर संबंध हैं। उन्‍होंने कहा कि दोनों देश व्यापार के साथ ही रक्षा के क्षेत्र में भी भागीदारी को बढ़ावा देंगे। जिसके लिए दोनो देश व्यापार को बढ़ावा देने के लिए सुविधा उपलब्ध कराने पर भी सहमत हुए।Embeded Objectवही केन्या के राष्ट्रपति ने कहा कि उनका देश भारत के साथ मिलकर आगे चलने को तैयार है। भारत सरकार जिस तरह से केनियाई छात्रों की मदद कर रही है, उसे और आगे बढा़ने की जरूरत है।Embeded Objectइससे पहले भारत की तीन दिन की यात्रा पर आए केन्‍या के राष्‍ट्रपति उरू केन्‍याता का आज नई दिल्ली के राष्‍ट्रपति भवन में रस्‍मी स्‍वागत किया गया। राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने केन्‍याता का स्‍वागत किया। बाद में केन्‍याता ने राजघाट जाकर महात्‍मा गांधी की समाधि पर श्रद्धा-सुमन अर्पित किये। श्री केन्‍याता आज शाम राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मिलेंगे। केन्‍याता ने कल गुजरात वाइब्रेट सम्‍मेलन में हिस्‍सा लिया था।