वाशिंगटन, जनवरी 11: ओबामा ने कहा कि देश का लोकतंत्र सभी लोगों को आर्थिक समृद्धि के अवसर दिये बिना नहीं चल सकता। बिना आम नागरिकों के बदलाव संभव नहीं है। शिकागो में बुधवार को अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने विदाई भाषण दिया। भाषण देते समय राष्ट्रपति ओबामा कई बार भावुक भी हुये।अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर राष्ट्र के नाम अपने आखिरी भाषण में उन्होने सभी को शुक्रिया किया। ओबामा ने कहा कि रंगभेद आज भी अमेरिका में एक बड़ा और लोगों को बांटनेवाला मुद्दा है। अगर हम आप्रवासियों के बच्चों के साथ बेहतर व्यवहार नहीं करेंगे,तो हम अपने बच्चों के भविष्य की संभावनाओं को भी धूमिल कर देंगे। रंगभेद या कोई भी विभेद सोच में बदलाव लाकर ही बदला जा सकताहै, सिर्फ कानून से काम नहीं चलेगा।
Embeded Object
ओबामा ने कहा है कि उन्‍होंने सीखा है कि परिवर्तन तभी होता है जब आम लोग परिवर्तन की प्रक्रिया में शामिल होते हैं और मिलकर इसकी मांग करते हैं। ओबामा ने कहा, आप सभी ने मुझे एक बेहतर राष्ट्रपति बनाया। मैने सीखा कि बदलाव तभी आता है जब आम आदमी बदलाव की मांग करता है और उसे पाने की प्रक्रिया में शामिल हो जाता है। मेरा मानना है कि अमेरिका का भविष्य अच्छे हाथों में है। अमेरीका एक आगे बढ़ते देश के रूप में जाना जाता है जो सभी लोगों को साथ लेकर चलता है।Embeded Objectअपने कार्यकाल का जिक्र करते हुए उन्होने कहा कि पिछले 8 सालों में एक भी विदेशी आतंकी हमला नहीं हुआ। अमेरिका पर हमला करने वाला कोई भी सुरक्षित नहीं रह सकता। साथ ही उन्होंने अमेरिकी जनता से अपील की कि अमेरिकी मुस्लिमों के खिलाफ किसी प्रकार के भेदभाव को नकार दें। उन्होने कहा की मुसलमान भी उतने ही देशभक्त हैं जितने हम है।Embeded Objectबता दें की 55 साल के ओबामा अमेरिका के पहले अश्वेत राष्ट्रपति हैं। वो पहली बार 2008 में राष्ट्रपति चुने गए थे। अमेरिका के लिए ओबामा ने 2008 में 'उम्मीद और बदलाव' का नारा दिया था। अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप 20 जनवरी को अमेरिकी राष्ट्रपति के रुप में शपथ लेंगे।Embeded Object