नई दिल्ली, दिसंबर 15: भारत में पर्यटन को बढ़ावा देने और प्रोत्साहित करने के लिए मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई ई-पर्यटक वीजा सुविधा के चलते देश में आने वाले विदेशी यात्रियों की संख्या में पिछले साल के मुक़ाबले भारी बढ़ोतरी हुई है। पर्यटन मंत्रालय के अनुसार ई-पर्यटक वीजा पर देश में पिछले साल के मुकाबले इस साल पर्यटकों की संख्या में 56.6 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।
पर्यटन मंत्रालय के अनुसार, दिसंबर 2016 में ई-पर्यटक वीजा पर कुल मिलाकर देश में 1,62,250 पर्यटकों का आगमन हुआ, जबकि दिसंबर 2015 में 1,03,617 पर्यटक आए थे। पर्यटक वीजा सुविधा का लाभ उठाने में ब्रिटेन (22.4 प्रतिशत) लगातार शीर्ष स्‍थान पर रहा। उसके बाद अमेरिका (16.4 प्रतिशत) और रूसी संघ (7.7 प्रतिशत) रहे। ई-पर्यटक वीजा सुविधा भारत में 16 हवाई अड्डों पर 150 देशों के नागरिकों के लिए उपलब्‍ध है।

जनवरी से दिसंबर 2016 के दौरान ई-पर्यटक वीजा पर कुल मिलाकर 10,79,696 पर्यटक आये, ज‍बकि जनवरी से दिसंबर 2015 में यह संख्‍या 4,45,300 थी। अत: इस तरह पर्यटकों की संख्‍या में 142.5 प्रतिशत की उल्‍लेखनीय वृद्धि दर्ज की गई है। बता दे कि यह उल्‍लेखनीय बढ़ोतरी 161 देशों के लिए ई-पर्यटक वीजा सुविधा की पेशकश करने से ही संभव हो पाई है, जबकि पहले यह संख्या केवल 113 ही थी।

ई-पर्यटक वीजा सुविधाओं का लाभ उठाने वाले शीर्ष 10 स्रोत देशों की हिस्सेदारी में ब्रिटेन (22.4 प्रतिशत), संयुक्त राष्ट्र अमेरिका (16.4 प्रतिशत), रूसी संघ (7.7 प्रतिशत), चीन (5.3 प्रतिशत), ऑस्‍ट्रेलिया (4.6 प्रतिशत), फ्रांस (4.1 प्रतिशत), जर्मनी (4.0 प्रतिशत), दक्षिण अफ्रीका (3.7 प्रतिशत), कनाडा (3.7 प्रतिशत), कोरिया गणराज्‍य (2.0 प्रतिशत) है।

ई-पर्यटक वीजा सुविधाओं का लाभ उठाते हुए विदेशी पर्यटकों ने इन 10 हवाई अड्डों पर सबसे ज्यादा आगमन किया जिसके अनुसार नई दिल्ली हवाई अड्डा (36.6 प्रतिशत), मुंबई हवाई अड्डा (23.1 प्रतिशत), डाबोलिम (गोवा) हवाई अड्डा (13.6 प्रतिशत), चेन्नई हवाई अड्डा (6.0 प्रतिशत), बेंगलुरू हवाई अड्डा (5.1 प्रतिशत), कोच्चि हवाई अड्डा (4.7 प्रतिशत), कोलकाता हवाई अड्डा (2.5 प्रतिशत), हैदराबाद हवाई अड्डा (2.4 प्रतिशत), तिरुअनंतपुरम हवाई अड्डा (1.9 प्रतिशत) और अहमदाबाद हवाई अड्डा (1.7 प्रतिशत) शामिल है।