कनाडा, जनवरी 12: भारतीय राष्ट्रध्वज अपमान मामलें में भारत की ओर से चेतावनी मिलने के बाद दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन ने मांफी मांगी है। बता दें की अमेजन की साइट पर भारतीय तिरंगे वाला पायदान बेचने के कारण विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कंपनी अधिकारियों को भारत में नहीं घुसने देने की धमकी दी थी। जिसके तुरंत बाद ही अमेजन ने तिरंगे के रंगवाले पायदान को हटा दिया। वहीं इसके खिलाफ भारतीयों ने दुनियाभर में मुहिम भी छेड़ दी है।अमेजन इंडिया लिमिटेड के उपाध्यक्ष एवं कंट्री मैनेजर अमित अग्रवाल ने सुषमा को पत्र में कहा कि, हमारा कभी भी भारतीय भावनाओं को ठेस पहुंचाने का इरादा या मतलब नहीं था। अमेजन इंडिया भारतीय कानूनों और मान्यताओं का सम्मान करने को प्रतिबद्ध है। कनाडा में थर्डपार्टी विक्रेता की पेशकश किये जा रहे इन सामानों ने भारतीय संवेदनाओं को ठेस पहुंची, अमेजन इसके लिए खेद जताता है।
Embeded Objectअग्रवाल यह भी कहा कि अमेजन भारत के प्रति दृढ़ता से प्रतिबद्ध बना हुआ है जो कि कंपनी के सीईओ जेफ बेजोस की बीते साल की गई उस घोषणा से भी साफ है जिसमें उन्होंने भारत में पांच अरब डालर निवेश की योजना की बात कही थी। मैनेजर ने आगे कहा कि हम भारत सरकार, देश के बिजनसमेन, डीलर्स और सबसे महत्वपूर्ण हमारे भारतीय उपभोक्ताओं और कर्मचारियों के साथ अपने संबंध को काफी महत्व देते हैं।इससे पहले भारतीय विदेश मंत्री ने कड़ी आपत्ति जताते हुये ट्वीट किया की, अमेजन कनाडा भारतीय झंडे तिरंगे के रंग में बेचे जा रहे उत्पादों को तुरंत हटाये और इसके लिए तुरंत बिना शर्त मांफी मांगे। और अगर ऐसा नहीं हुआ तो उसके अधिकारियों को भारत में घुसने नहीं दिया जाएगा। कंपनी के अधिकारियों को वीजा नहीं दिए जाएंगे और पहले से जारी वीजा भी रद्द कर दिए जाएंगे।

गौरतलब है की बुधवार को अतुल भोबे नाम के व्यक्ति ने ट्वीट कर विदेश मंत्री से अमेजन कनाडा में बिक रहे तिरंगे जैसे पायदान की शिकायत की थी। 

साथ ही तिरंगे का अपमान कतई बर्दाश्त नहीं करने की बात कहते हुये सुषमा ने कनाडा में भारतीय उच्चायुक्त को इस मामले को अमेजन के शीर्ष स्तर पर पहुचाने का भी आदेश दिया था।