नई दिल्ली, जनवरी 17: नागालैंड में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए भारत ने विश्व बैंक के साथ कई समझौते किए। जिसमे 'नागालैंड स्वास्थ्य परियोजना' के वित्तपोषण के लिए विश्व बैंक के 48 लाख अमेरिकी डॉलर के आईडीए ऋण संबंधित समझौता शामिल है। स्‍वास्‍थ्‍य परियोजनाओं के तहत उच्‍च स्‍तर की सुविधाओं में निवेश बढ़ने से राज्‍य के करीब छह लाख लोगों को प्रत्‍यक्ष लाभ होगा।

वित्तपोषण समझौते पर भारत सरकार की ओर से आर्थिक मामलों के विभाग में संयुक्त सचिव राज कुमार ने और विश्व बैंक की कार्यवाहक निदेशक गेनेविएव कोनर्स ने हस्ताक्षर किए। अन्य समझौते पर नागालैंड सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण निदेशालय के प्रधान निदेशक डॉ. एल. वाटिकाला और विश्व बैंक की कार्यवाहक निदेशक गेनेविएव कोनर्स ने हस्ताक्षर किए।

परियोजना का उद्देश्य स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार और समुदायों द्वारा उनके उपयोग को बढ़ावा देना है। स्वास्थ्य प्रणाली में व्यापक निवेश से नगालैंड में लक्षित स्थानों पर उच्च स्तर की सुविधाओं में सुधार होगा। इसके अलावा स्वास्थ्य सुविधा के स्तर पर समुदाय परियोजना की गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा।

परियोजना से सीधे तौर पर लगभग 6 लाख लोगों को लाभ होगा। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत समुदायों से जुड़े मौजूदा तंत्र को यह सिस्टम सहायता प्रदान करेगा। नागालैंड स्वास्थ्य परियोजना 31 मार्च 2023 तक पूरी होगी।