नई दिल्ली, जनवरी 17: केंद्रीय कृषि मंत्री ने बताया की राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन को शानदार सफलता मिली है साथ ही 11वीं पंचवर्षीय योजना में लक्ष्य से 42 मिलियन टन अधिक खाद्यान्न का उत्पादन हुआ। कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्रालय की संयुक्‍त हिन्‍दी सलाहकार समिति की बैठक मंगलवार को केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधा मोहन सिंह की अध्‍यक्षता में आयोजित की गई। इसदौरान सरकार ने कृषि योजनाओ में हिन्दी के प्रयोग को बढ़ाने पर बल दिया।इस बैठक में समिति के सदस्‍यों के अतिरिक्‍त कृषि एवं किसान कल्‍याण राज्‍य मंत्री पुरुषोत्तम रुपाला ने भी भाग लिया। कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्रालय की संयुक्‍त हिन्‍दी सलाहकार समिति का गठन 24 अगस्‍त, 2016 को किया गया था। गठन के पश्‍चात समिति की यह पहली बैठक थी। बैठक के दौरान हुई चर्चा में सदस्‍यों ने कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्रालय एवं इसके विभागों में राजभाषा हिन्‍दी के प्रयोग की स्‍थिति पर संतोष व्‍यक्‍त करते हुए यह आग्रह किया कि भविष्‍य में अधिक से अधिक कार्य केंद्र सरकार की राजभाषा हिन्‍दी में किया जाए।

चर्चा के पश्‍चात अपने अध्‍यक्षीय सम्‍बोधन में राधा मोहन सिंह ने उल्‍लेख किया कि कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्रालय की अधिकांश नीतियां/योजनाएं तथा गतिविधियां भारत के किसानों एवं आम जनता से संबंध रखती हैं। इसलिए भी हमारा यह कर्तव्य हो जाता है कि हम सरकार के काम काज में अधिकाधिक हिन्‍दी का प्रयोग करें। उसके साथ-साथ हिन्‍दीतर भाषी राज्‍यों में भी ऐसी योजनाओं की जानकारी आम जनता को उनकी क्षेत्रीय भाषा में देना उपयोगी होगा।Embeded Objectराधा मोहन सिंह ने मंगलवार को कृषि मंत्रालय में हुई राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन की 12 सामान्य परिषद की बैठक की अध्यक्षता की। इस बैठक में अधिकारियों ने कृषि मंत्री को राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के तहत उत्पादन लक्ष्यों और अब तक हासिल उपलब्धियों के बारे में प्रेजेंटेशन के जरिए विस्तार से जानकारी दी।