कराची, जनवरी 19: पाकिस्तान में कोई भी अंतराष्ट्रीय मैच नहीं आयोजित होने से मुख्य चयनकर्ता और पूर्व कप्तान इंजमाम उल हक ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर संघ (फिका) से खुद यहाँ आकर सुरक्षा जांच करने की बात कही है।इंजमाम ने इस्लामाबाद में मीडिया से कहा, फीका पाकिस्तान में एक प्रतिनिधिमंडल भेजकर सुरक्षा हालात का जायजा ले ताकि यह तय किया जा सके कि यहां खेलना महफूज है या नहीं। उन्होने कहा, मुझे लगता है कि वे यहां आयेंगे तो उन्हें खुद ही पता चल जायेगा कि पाकिस्तान में सुरक्षा हालात काफी बेहतर हुए हैं और यह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के आयोजन के लिये सुरक्षित है।

इंजमाम ने कहा कि पाकिस्तान में 2009 से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं होने के कारण काफी नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा, फिका को समझना चाहिये कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड अगर लाहौर में पीएसएल फाइनल के आयोजन की सोच रहा है या वेस्टइंडीज को कुछ मैच खेलने का न्यौता दे रहा है तो यह सरकार की मंजूरी के बाद ही हो रहा है।

बता दें की साल 2009 में पाकिस्तान में श्रीलंकाई टीम पर हुए दिल दहलाने वाली आतंकी हमले के बाद से पाकिस्तान में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों का आयोजन बंद हो गया। उस हमले में सात पुलिसकर्मी मारे गए थे और महेला जयवर्धने, कुमार संगकारा तथा अजंता मेंडिस समेत सात श्रीलंकाई खिलाड़ी घायल हो गए थे।