नयी दिल्ली, जनवरी 20: विमुद्रीकरण के बाद डिजिटल भुगतान प्रणाली और कैशलेस अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहन देने के लिए सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों को लोगों की उत्साहजनक प्रतिक्रिया मिली है। डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई लकी ग्राहक योजना और डिजि-धन व्यापार योजना में विभिन्न आयु वर्गों, व्यवसायों और जीवन के विभिन्न क्षेत्रों के लोग बड़ी संख्या में हिस्सा ले रहे हैं।

देश भर में 24 डिजि-धन मेलों के दौरान 3.81 लाख ग्राहकों और 21 हजार व्यापारियों को 60.90 करोड़ रुपये की पुरस्कार राशि का विजेता घोषित किया जा चुका है। इसकी विस्तृत जानकारी देते हुए केंद्रीय विधि एवं न्‍याय और इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के तहत सामान्य सेवा केंद्रों (कॉमन सर्विस सेंटर्स) ने डिजिटल भुगतान प्रणाली के जरिए लेनदेन करने के लिए 1.94 करोड़ नागरिकों और 5.93 लाख व्यापारियों को प्रशिक्षित किया है।

नीति आयोग की लकी ड्रा योजना में ग्राहकों के लिए ‘लकी ग्राहक योजना, एलजीवाई’ और व्यापारियों के लिए ‘डिजि-धन योजना, डीवीवाई’ के तहत देश भर में 24 डिजि-धन मेलों के दौरान दैनिक/साप्ताहिक आधार पर 3.81 लाख से अधिक विजेताओं को 60.90 करोड़ रुपये की पुरस्कार राशि प्रदान की जा चुकी है। भाग्यशाली विजेताओं में अन्य लोगों के अलावा ओडिशा के रामपुर में मोबाइल की दुकान चलाने वाले 24 साल के आशुतोष मिश्रा, मुंबई के घाटकोपर के 24 साल के जाधव अमित अनिल, नासिक के 27 साल के मंगेश अनंतराव जाधव, बंगलुरू के उलसूर की 42 साल की सुमन सप्रा और आंध्र प्रदेश की 54 साल की गृहिणी तृप्ता देवी शामिल हैं। विजेता सूची में छोटे किसानों, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, गृहिणियों, मजदूरों आदि समेत जीवन के विभिन्न क्षेत्रों के लोगों शामिल हैं।

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) द्वारा उपलब्ध कराए गए डाटा के विश्लेषण से पता चलता है कि डिजिटल भुगतान को अपनाए जाने को लेकर लोगों की प्रतिक्रिया सकारात्मक है। महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश और कर्नाटक उन शीर्ष पांच राज्यों में हैं, जहां विजेताओं की संख्या सबसे अधिक है। पुरुषों एवं महिलाओं का इसमें सक्रिय सहभागिता देखने को मिली है। इस योजना के ज्यादा विजेता 21 से 30 वर्ष की आयु के हैं।

इन दोनों योजनाओं का शुभारंभ 25 मार्च, 2016 को हुआ था। ये योजनाएं 14 अप्रैल, 2017 तक चलेंगी। इन योजनाओं का उद्देश्य डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए ग्राहकों और व्यापारियों को प्रोत्साहित करना है। 15,000 विजेता प्रतिदिन 1.5 करोड़ रुपये की पुरस्कार राशि पाएंगे। यानी प्रत्येक व्यक्ति को 1000 रुपये मिलेंगे। इसके अलावा, 14,000 विजेता साप्ताहिक ड्रा के लिए क्वालिफाई करेंगे। प्रत्येक सप्ताह के लिए कुल पुरस्कार राशि 8.3 करोड़ रुपये होगी।

रूपे कार्ड, भीम यूपीआई (भारत इंटरफेस फॉर मनी/यूनीफाइड पेमेंट इंटरफेस), यूएसएसडी आधारित *99# सेवा और आधार आधारित भुगतान प्रणाली (एईपीएस) का इस्तेमाल करने वाले ग्राहक और व्यापारी दैनिक और साप्ताहिक लकी ड्रा में हिस्सा लेने के पात्र होंगे।

ये लकी ड्रा देश भर में आयोजित होने वाले डिजि-धन मेला में निकाले जाएंगे। लोगों के मस्तिष्क में डिजिटल भुगतान को बैठाने के लिए देश भर में 100 से अधिक डिजि-धन मेला आयोजित किए जाएंगे।