नई दिल्ली, जनवरी 21 : केंद्र द्वारा जल्लीकट्टू अध्यादेश को मंजूरी दिए जाने के एक दिन बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि तमिलनाडु की जनता की सांस्कृतिक आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ. पनीरसेल्वम ने दो दिन पहले प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात कर उनसे अध्यादेश को मंजूरी देने का अनुरोध किया था। केंद्रीय गृह मंत्रालय, कानून मंत्रालय और पर्यावरण मंत्रालय ने अध्यादेश को कल रात ही मंजूरी दे दी। 

प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, “तमिलनाडु की समृद्ध संस्कृति पर हमें गर्व है। तमिल लोगों की सांस्कृतिक आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं।” प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार तमिलनाडु की प्रगति के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है और राज्य को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने के लिए काम करती रहेगी।

जल्लीकट्टू के आयोजन की इजाजत देने के लिए केंद्र ने तत्परता दिखाते हुए अध्यादेश के मसौदे को मंजूरी दी जिसके एक ही दिन बाद यह वक्तव्य आया है। इसके साथ ही राज्य में बीते पांच दिनों से चले आ रहे व्यापक विरोध प्रदर्शनों को खत्म करने की दिशा में आगे बढ़ते हुए तमिलनाडु के लिए इस अध्यादेश को लागू करने का रास्ता साफ हो गया।