नई दिल्ली, जनवरी 23: देश के 68वें गणतंत्र दिवस परेड में इस वर्ष 17 राज्य व केंद्र शासित प्रदेशों के अलावा केंद्रीय मंत्रालयों व​ विभागों की 6 झांकियों सहित कुल 23 झांकियां निकलेंगी। बता दे कि यह झांकियों के माध्यम से पूरे देश को भारत के विभिन्न राज्यों के रंग और सांस्कृतिक वैभव और सामाजिक चेतना के भाव के साथ अनेकता में एकता का भाव देखने को मिलेगा।
इस परेड में महान स्वतंत्रता सैनानी लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक का स्मरण कराते हुए मोदी सरकार की महत्वकांक्षी योजनाओं जीएसटी, कौशल भारत, सभी के लिए आवास दर्शाने वाली झांकियां भी शामिल होंगी। राजपथ पर तीन साल बाद दिल्ली की झांकी भी आएगी जिसमें 'मॉडल स्कूल' बने सरकारी स्कूलों की स्थिति को दर्शाया जाएगा।

महाराष्ट्र की झांकी प्रखर देशभक्त 'लोकमान्य तिलक' के जीवनचरित्र पर आधारित होगी जिनकी इस वर्ष 160वीं जयंती मनाई जा रही है। 'मॉडल स्कूल' शीर्षक के तहत दिल्ली की झांकी में सरकारी स्कूलों में बदलाव और बेहतर शिक्षा को दर्शाया गया है।

ओडिशा के लोकप्रिय उत्सव डोला जतरा, अरूणाचल प्रदेश का याक नृत्य, मणिपुर का लाई हराओबा, गुजरात की झांकी में कच्छ की जीवनशैली और कला, लक्षद्वीप अपने अनछुए पर्यटन स्थलों, कर्नाटक अपना लोक नृत्य, हिमाचल प्रदेश में चंबा रूमाल, हरियाणा बेटी बचाओ—बेटी पढाओ, पश्चिम बंगाल का शरद उत्सव, पंजाब का जागो आईया, ​तमिलनाडु प्रसिद्ध लोक नृत्य काराकट्टम, गोवा की झांकी में अपने संगीत की विरासत को, त्रिपुरा की झांकी में होजागिरी नृत्य, जम्मू और कश्मीर की झांकी गुलमर्ग में शीतकालीन खेलों और असम की झांकी में कामाख्या मंदिर का दर्शन कराया गया है।

इनके अलावा केंद्र सरकार के मंत्रालय और विभागों में केंद्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीईसी) की झांकी में वस्तु एवं सेवा कर, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय (एमएसएमई) में खादी भारत, आवास और शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय सभी के लिए आवास, वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद, केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्ल्यूडी) की झांकी में ग्रीन इंडिया क्लीन इंडिया और कौशल विकास मंत्रालय अपनी झांकी में कौशल विकास के माध्यम से भारत को बदलने की झांकी परेड का आकर्षण होंगी।