रायपुर, जनवरी 3: छत्‍तीसगढ़ में डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए राजधानी रायपुर में सोमवार को डिजिधन मेले का आयोजन किया गया। राज्‍य में अगले 15 दिनों में लगने वाले ऐसे मेलों की श्रृंखला का यह पहला मेला है। केन्‍द्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री नरेन्‍द्र सिंह तोमर ने मेले का उद्घाटन किया।मेले में विभिन्न बैंकों, कॉमन सर्विस सेंटर, निजी डिजीटल पेमेन्ट सेवाएं प्रदाता, छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज सहकारी संघ, नगर निगम, ग्रामोद्योग, देवभोग, खाद्य, सहकारिता, कृषि विभाग व उनकी अनुषंगी संस्थाएं द्वारा स्टॉल लगाकर लोगों को पी.ओ.एस., ई-वॉलेट एवं मोबाइल एप, एईपीएस, यूपीआई, आधार एनेबल्ड पेमेन्ट, रूपे कार्ड और डेबिट कार्ड आदि माध्यमों से कैशलेस ट्रान्जेक्शन के संबंध में जानकारी प्रदान की गई।

नगदरहित लेन देन को बढ़ावा देने के लिए छत्‍तीसगढ़ में इस महीने की पहले पखवाड़े में तीन डिजि-धन मेले आयोजित किेये जा रहे हैं। रायपुर में आयोजित किये गये पहले डिजि-धन मेले में डिजिटल पेमेंट के तौर-तरीकों को जानने में लोगों ने काफी रुचि दिखाई। डिजिटल भुगतान सेवा अगले तीन महीनों के दौरान राज्‍य के पांच जिलों में सभी सार्वजनिक वितरण प्रणाली की दुकानों पर उपलब्‍ध कराई जाएगी।Embeded Objectकृषि विश्‍वविद्यालय परिसर में लगे इस डिजि धन मेले में रायपुर शहर के साथ-सा‍थ आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों से भी बड़ी संख्‍या में लोग पहुंचे। इस मेले में अनेक शासकीय विभागों के अलावा निजी क्षेत्र की कंपनियों ने भी अपने स्‍टॉल लगाए थे। इन स्‍टॉलों के जरिए लोगों को बताया गया कि रु-पे कार्ड, यूएसएसबी, यूपीआई और एसआईपीएस के जरिए डिजिटल भुगतान कैसे किया जाए।Embeded Objectकिसानों द्वारा मेले में लगाए गए स्टॉलों से कैशलेस ट्रान्जेक्शन से बीज और उर्वरक की खरीदी भी की गई। मेले में सार्वजनिक वितरण प्रणाली की 250 दुकानों को निर्धारित शुल्क पर पी.ओ.एस. मशीन और बायोमेट्रिक डिवाइस प्रदान की गई। राशनदुकान संचालकों को दिए गए टेबलेट में खाद्य विभाग द्वारा डिजी पे एप डाउनलोड किया गया। बैंकों के स्टॉलों ने आधार नंबर को खातों से जोड़ने और नए खाते खोलने का कार्य भी किया। नगर निगम द्वारा युवाओं को डिजीटल आर्मी का मेम्बर भी बनाया गया। मेले में कई नागरिकों ने कैशलेस ट्रान्जेक्शन की पद्वति सीखी और राशि का दूसरे खातों में अंतरण भी किया।