नई दिल्ली, जनवरी 3: रेलवे ने कानपुर के पास सियालदाह-अजमेर एक्सप्रेस के पटरी से उतरने के मामले में काम में लापरवाही के लिए चार कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। उत्तर-मध्य रेलवे के प्रवक्ता ने बताया है कि रूरा रेलवे स्टेशन के ड्यूटी पर तैनात स्टेशन मास्टर, कानपुर सेंट्रल के सीनियर सेक्शन इंजीनियर और एक यातायात निरीक्षक को निलम्बित किया गया है।रेलवे ने यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने और मानवीय प्रणालियों पर निर्भरता कम करने और बड़े पैमाने पर आधुनिकतम तकनीक के इस्तेमाल का फैसला किया है। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने उत्‍तर प्रदेश में ट्रेन के पटरी से उतरने की दो घटनाओं को बहुत दुखःद बताया। उन्होंने कहा कि जापान और कोरिया के विशेषज्ञ मौजूदा सुरक्षा प्रणाली की जांच करेंगे और उसे मजबूत करने के उपाय बताएंगे। उन्‍होंने कहा कि रेल मंत्रालय ने विशेष कोष के लिए वित्‍त मंत्रालय को लिखा है, जिसे सिद्धांत रूप में मान लिया है।

बता दें की गत 28 दिसंबर को उत्‍तर प्रदेश में सियालदह-अजमेर 12987 एक्‍सप्रेस ट्रेन के पन्‍द्रह डिब्‍बे तड़के कानपुर देहात जिले के रूरा रेलवे स्‍टेशन के पास पटरी से उतर गए थे। सवेरे लगभग साढ़े पांच बजे हुई इस दुर्घटना में पचास से अधिक लोग घायल हुये थी। इस दुर्घटना में ट्रेन के दो डिब्‍बे रूरा स्‍टेशन से कुछ पहले एक नहर में गिर गए। रूरा स्‍टेशन कानपुर से करीब पचास किलोमीटर दूर है।

वहीं 42 दिन पहले भी इंदौर पटना एक्सप्रेस हादसे का शिकार हो गई थी, जिसमें 150 से ज्यादा मुसाफिरों की मौत हो गई थी। डेढ़ माह के दौरान कानपुर में दो बड़े ट्रेन हादसों से रेलवे की यह कार्यवाही लगभग तय मनी जा रही थी। हालांकि इन दुर्घटनाओ के पीछे आंतकी साजिश की भी आंशका जताई जा रही थी जिसके लिए रेलवे ने नए सिरे से पड़ताल शुरू किया था।