साउ पाउलो, जनवरी 3: ब्राजील में रविवार को शुरु हुये एक जेल में दंगें में कम से कम 60 लोग मारे गये। उपद्रवियों ने कुछ शवों को क्षत-विक्षत कर दिया और जला दिया। अमेजोनस राज्‍य की राजधानी मनाओस में जेल में दंगाइयों ने सुरक्षा कर्मियों को बंधक बना लिया। इसदौरान जेल से कई कैदियों के भागने की भी खबर है। फिलहाल पुलिस ने दो प्रतिद्वंद्वी गुटों के बीच हुए झगड़े पर चौबीस घंटे बाद काबू पाने में सफलता पायी और जांच शुरू कर दिया है।मेजोनास प्रांत के सुरक्षा प्रमुख सर्गियो फोंटेस ने कहा कि मरने वालों की संख्या और बढ़ सकती है, क्योंकि खूनी जंग जेल के किन-किन बैरकों में फैली, इसका अभी पता नहीं चल पाया है। मारे गए कई कैदियों की लाशें जेल की दीवार से बाहर फेंक दी गईं। इस अफरातफरी में तमाम कैदी जेल से फरार भी हो गए हैं। खूनखराबे साउ पाउलो के फर्स्ट कैपिटल कमांड गुट भी शामिल था और रियो डि जेनेरियो के रेड कमांड गुट के बीच हुआ।

उन्होंने बताया कि कैदियों ने 12 सुरक्षागार्डों की बंदूकें छीन लीं। रेड कमांड गुट ने दूसरे गुट के 74 कैदियों को बंधक बना लिया और ताबड़तोड़ गोलीबारी कर दी। दोनों गुटों के बीच शांति का समझौता पिछले साल टूट गया था। बता दें की कैदियों की संख्या अमेरिका, चीन और रूस के बाद ब्राजील में सबसे अधिक है। मानवाधिकार संगठन अक्सर ब्राजीली जेलों में कैदियों के हालात का मुद्दा उठाते रहे हैं।Embeded Objectब्राजील में इससे पहले 1992 में साउ पाउलो शहर की करानदिरू जेल में दंगा भड़का था, जिसमें 111 कैदी मारे गए थे। तब एक जेल से दूसरी जेल ले जाते वक्त खूनी संघर्ष छिड़ा था।