नई दिल्ली, जनवरी 4: पांच राज्यों की 690 विधानसभा सीटों पर चुनाव का बिगुल बज चुका है। चुनाव आयोग ने बुधवार को पांच राज्यों उत्तरप्रदेश, पंजाब, गोवा, उत्तराखंड और मणिपुर में आगामी विधानसभा चुनावों से जुड़े मतदान कार्यक्रम की घोषणा कर दी है। जिसमें कुल 185000 पोलिग स्टेशन होंगे तथा 16 करोड़ लोग मतदान करेंगे। जिसके साथ ही आज से सभी राज्यों में आचार संहिता भी लागू हो गया है।मुख्य चुनाव आयुक्त डॉ नसीम जैदी ने चुनाव कार्यक्रम की घोषणा करते हुये बताया की गोवा और पंजाब में 4 फरवरी, मणिपुर में दो चरणों में 4 और 8 मार्च को चुनाव जाएगा। वहीं, उत्तरप्रदेश में 7 चरणों में 11 फरवरी से लेकर 8 मार्च तक चुनाव होंगे। जबकि उत्तराखंड में एक चरण में 15 फरवरी को चुनाव होंगे। सबसे अहम बात यह है कि सभी राज्यों में मतगणना का काम एक साथ 11 मार्च को होगा।

देश के सबसे बड़े विधानसभा क्षेत्र उत्तर प्रदेश में पहले चरण में 15 जिलों की 73 सीटों पर मतदान 11 फरवरी को मतदान होगा। दूसरे चरण में 11 जिलों की 67 सीटों पर 15 फरवरी को वोटिंग होगी। तीसरे चरण में 12 जिलों की 69 सीटों पर 19 फरवरी को मतदान होगा। चौथे चरण में 12 जिलों की 53 सीटों पर 23 फरवरी को वोट पड़ेंगे। पांचवें चरण में 11 जिलों की 52 सीटों पर 27 फरवरी को वोटिंग होगा। छठे चरण में 7 जिलों की 49 सीटों पर 4 मार्च को मतदान होगा। और आखिरी में सातवें चरण में 7 जिलों की 40 सीटों पर 8 मार्च को वोट डाले जाएंगे।

मणिपुर में दूसरे चरण में 22 सीटों पर चुनाव के लिए अधिसूचना 11 फरवरी को जारी होगी। नामांकन पत्र भरने की अंतिम तिथि 18 फरवरी होगी, जबकि उनकी जांच के लिए 20 फरवरी का दिन तय किया गया है। नामांकन वापस लिए जाने की अंतिम तारीख 22 फरवरी होगी, जबकि मतदान 8 मार्च को करवाया जाएगा।

पंजाब में सभी 117 विधानसभा सीटों पर एक ही चरण में मतदान के लिए अधिसूचना 11 जनवरी को जारी होगी। नामांकन पत्र भरने की अंतिम तिथि 18 जनवरी होगी, जबकि उनकी जांच के लिए 19 जनवरी का दिन तय किया गया है। नामांकन वापस लिए जाने की अंतिम तारीख 21 जनवरी होगी, जबकि मतदान 4 फरवरी को करवाया जाएगा।

गोवा में भी सभी 40 विधानसभा सीटों पर चुनाव का कार्यक्रम पूरी तरह पंजाब के साथ चलेगा, यानी अधिसूचना 11 जनवरी को जारी होगी। नामांकन पत्र भरने की अंतिम तिथि 18 जनवरी होगी, उनकी जांच के लिए 19 जनवरी का दिन तय किया गया है। नामांकन वापस लिए जाने की अंतिम तारीख 21 जनवरी होगी, जबकि मतदान 4 फरवरी को करवाया जाएगा।

उत्तराखंड में सभी 70 सीटों पर एक ही चरण में करवाए जाने वाले मतदान के लिए अधिसूचना 20 जनवरी को जारी होगी। नामांकन पत्र भरने की अंतिम तिथि 27 जनवरी होगी, जबकि उनकी जांच के लिए 28 जनवरी का दिन तय किया गया है। नामांकन वापस लिए जाने की अंतिम तारीख 30 जनवरी होगी, जबकि मतदान 15 फरवरी को करवाया जाएगा।

मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि पिछली बार से 15 प्रतिशत अधिक मतदाता अपने मत प्रयोग करेंगे। उम्मीदवार को खर्च के लिए राशि की सीमा 28 लाख रखी गई है, जबकि मणिपुर व गोवा में यह राशि 20 लाख होगी। आयोग ने यह भी साफ किया कि 20 हज़ार से ज्यादा लोन और सहायता चेक से लेनी होगी।

मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि पिछली बार से 15 प्रतिशत अधिक मतदाता अपने मत प्रयोग करेंगे। उम्मीदवार को खर्च के लिए राशि की सीमा 28 लाख रखी गई है, जबकि मणिपुर व गोवा में यह राशि 20 लाख होगी। आयोग ने यह भी साफ किया कि 20 हज़ार से ज्यादा लोन और सहायता चेक से लेनी होगी। मतदाताओं की सहायता के लिए पोस्टर लगाए जाएंगे। साथ ही एक वोटर सहायता केंद्र भी बनेगा।

चुनाव प्रचार के दौरान खर्चे पर लगाम कसने के लिए भी आयोग कई कड़े कदम उठाने जा रहा है। जिसमें सबसे पहले उमीदवारों के चेनलों पर प्रचार भी उनके खाते में जोड़ा जाएगा। इस बार सभी वोटर को फोटो आईडी कार्ड दिए जाएंगे। सभी वोटर को फोटो वाली वोटर स्लिप भी मिलेगी। कुछ जगहों पर महिलाओं के लिए अगल पोलिंग बूथ होंगे। ईवीएम के पास ऊंची रखी जाएगी दीवार। बैलेट पेपर पर प्रत्याशी की तस्वीर होगी। उम्मीदवारों के लिए नियमों में कई बदलाव किए गए हैं।