नई दिल्ली, जनवरी 4: भारत सरकार ने बुधवार को कृषि और उससे संबंध क्षेत्रों में परस्पर सहयोग के लिए पुर्तगाल और कैन्या के साथ समझौते करने को मंजूरी दे दी है। बता दे कि केंद्र सरकार द्वारा किए गए विभिन्न देशों के साथ समझौते से भारत का विकास होगा।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में यहां हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में यह मंजूरी दी गई। यह समझौते हस्ताक्षर करने वाले दिन से पांच वर्ष के लिए लागू रहेंगे। पुर्तगाल के साथ होने वाले समझौते में वैज्ञानिक और प्रौद्योगिकी सूचनाओं का आदान-प्रदान, पौधों का व्यापार प्रशिक्षण कार्यक्रम, गोष्ठियां और विशेषज्ञों और सलाहकारों की यात्रायें शामिल हैं।

जबकि कैन्या के साथ होने वाले समझौते में कृषि अनुसंधान, पशुपालन, डेयरी, मत्स्य पालन, कृषि प्रबंधन व विप्पणन, जल प्रबंधन तथा सिंचाई आदि क्षेत्रों में परस्पर सहयोग करना है। दोनों समझौतों में संयुक्त कार्यसमूह का गठन करना भी है जिसमें दोनों देशों के प्रतिनिधि शामिल होंगे।

जबकि उरग्वे के साथ होने वाले समझौते में कस्टम मामलों में परस्पर सहयोग करना है ताकि कस्टम अपराधों को रोका जा सके और दोनों देशों के बीच समानों का व्यापार बढ़ाने के साथ ही बेहतर ढंग से सुनिश्चित किया जा सके।

भारत आज के युग में सबसे तेज विकास कर रहा है और दुनिया के सभी देश अब भारत के साथ व्यापार और आपसी संबंध मजबूत करने का प्रयास कर रहे है। उल्लेखनीय है कि जीतने देश भारत के साथ अच्छे और प्रगाढ़ रिश्ते बनाएँगे उतना ही भारत का विकास बढ़ेगा साथ ही भारत का अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर रुतबा भी बढ़ेगा।