नई दिल्ली, जनवरी 4: नोटबंदी के बाद से ग्रामीण इलाकों में नकदी की उपलब्‍धता बढ़ाने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने सभी बैंकों से ग्रामीण क्षेत्रों के लिए कम से कम चालीस प्रतिशत नोट उपलब्‍ध कराने के लिए कहा है। रिजर्व बैंक ने बैंकों को सलाह दी है कि वे नये नोटों की आपूर्ति बढ़ाएं और खजाने से छोटे नोट गांवों और ग्रामीण केन्‍द्रों में पहुंचायें।

आरबीआई ने यह फैसला बैंकों द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों को इस समय उपलब्‍ध कराये जा रहे करेंसी नोट गांवों की आबादी की आवश्‍यकताओं के अनुरूप नहीं हैं। आरबीआई ने बैंकों को निर्देश जारी करते हुए क्षमता के 40 फीसदी नोट ग्रामीण इलाकों की शाखाओं और एटीएम में भेजने को कहा है। निर्देश में ये भी कहा गया है कि ग्रामीण इलाकों में भेजे जाने वाले नोट 500 और उससे कम कीमत वाले हों।

मंगलवार को आरबीआई ने सभी सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र के कमर्शियल बैंक, ग्रामीण बैंक, डिस्ट्रिक लीड बैंक और सहकारी बैंकों को ग्रामीण इलाकों में नोट की सप्लाई को लेकर निर्देश जारी किया है। खासतौर पर 100 रुपये के नोट की कमी ना हो। इसके अलावा ग्रामीण इलाकों में सिक्कों की कमी ना हो इसका भी ख्याल रखा जाए। आरबीआई ने इस पूरी प्रक्रिया की हफ्तावार रिपोर्ट भी मांगी है। जिसमें हर बैंक को ग्रामीण इलाकों में दिए जाने वाले नोट और सिक्कों को लेकर जानकारी हर शुक्रवार की शाम अपने लिंक ऑफिस को देनी होगी।Embeded Object