नई दिल्ली, जनवरी 5: अपने बल्ले और ‘कुल कप्तानी’ की बदौलत दुनिया के सफलतम कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अचानक कप्तानी छोड़ दी है। धुरंधर बल्लेबाज और विकेटकीपर धोनी ने टी-20 और एक दिवसीय क्रिकेट टीम की कप्तानी छोड़ने की घोषणा की है। हालांकि वे इंग्लैंड के साथ 15 जनवरी से शुरू हो रही एकदिवसीय और टी-20 सीरीज में खेलेगें। धोनी ने टेस्ट टीम की कप्तानी पहले ही छोड़ दी थी।बीसीसीआई ने बुधवार को ट्वीट कर धोनी के कप्तानी छोड़ने की जानकारी दी। हालांकि, वह एक खिलाड़ी के तौर पर खेलते रहेंगे। धोनी क्रिकेट के हर रूप को बेहद बारीकी से समझते थे। कप्तान के तौर पर भारतीय क्रिकेट में बड़ा योगदान दिया है। 2007 में टी20 और 2011 में भारत को वर्ल्ड कप मैच जिताया था। हालांकि धोनी ने अचानक यह फैसला क्यों किया इस बारे में स्थिति स्पष्ट नहीं है, लेकिन समझा जा रहा है कि उन्होंने 2019 वर्ल्ड कप से पहले यह पद छोड़ दिया है ताकि नए कप्तान को पर्याप्त समय मिले।Embeded Objectवहीं अब अगला कप्तान कौन होगा इसका ऐलान बीसीसीआई की ओर से नहीं किया गया है। लेकिन टेस्ट की तरह ही विराट कोहली को अब वनडे और टी-20 की कप्तानी सौंपी जा सकती है। धोनी ने 199 वनडे और 72 टी 20 मैचों में भारत की कप्तानी की। गौरतलब है कि इंग्लैंड सीरीज़ के लिए भारतीय टीम की घोषणा गुरूवार को होनी है।

बता दें की जहा एक तरफ धोनी का जादू फीका पद रहा था तो वहीं दूसरी ओर विराट कोहली लगातार नए शिखर पर पहुच रहे थे। उन्होंने पिछले 16 महीने में भारतीय टेस्ट टीम की अगुआई करते हुए श्रीलंका (2-1), दक्षिण अफ्रीका (3-0), वेस्ट इंडीज (2-0), न्यू जीलैड (3-0) और इंग्लैंड (4-0) के खिलाफ सीरीज जीती। इस दौरान 19 टेस्ट मैच में विराट ने 1600 से अधिक रन बनाए। धोनी की कप्तानी में खेलते हुए वनडे मैचों में भी उनका प्रदर्शन शानदार रहा है। पिछले 15 वनडे में उन्होंने 75 की औसत से 948 रन जुटाए।Embeded Object