नई दिल्ली, जनवरी 5: केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने बैंक आफ इंडिया के एक अस्टिटेंट बैंक मैनेजर के साथ तीन अन्य व्यक्तियों को पैसे की हेराफेरी के मामले में गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार बैंक मैनेजर सूरत की बैंक ऑफ इंडिया शाखा में कार्यरत हैं जबकि अन्य तीन की पहचान एक निजी फर्म के मालिक के तौर पर हुई हैं।गिरफ्तार बैंक मैनेजर पर आरोप लगाया गया था कि उसने आपराधिक साजिश रचते हुए एक निजी फर्म के बैंक खाते खोले और उनमें गलत तरीके से नकद रुपये जमा करवाए हैं। इस मामले में आरोपी के द्वारा लगभग 24.35 करोड़ रुपये की हेराफेरी की गई।

सीबीआई के द्वारा आरोपी के जयपुर स्थित नौ ठिकानों पर छापे मारकर कई अहम दस्तावेज भी बरामद किये गये हैं। जिसके बाद अब आरोपियों को अहमदाबाद में विशेष अदालत के समक्ष पेश किये जाने की तैयारी की जी रही है।

वहीं स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने पेटीएम, मोबीक्विक, एयरटेल मनी समेत सभी ई-वॉलिट्स पर प्रतिबंध लगा दिया है। जिसके बाद अब एसबीआई की नेट बैंकिंग से इन वॉलिट्स में रकम ट्रांसफर नहीं की जा सकेगी। हालांकि डेबिट और क्रेडिट कार्ड्स के जरिए इन वॉलिट्स में पैसे ट्रांसफर किए जा सकेंगे। बैंक ने इस फैसले को लेकर आरबीआई को दी गई सफाई में सुरक्षा और कारोबारी हित का हवाला दिया है।