नई दिल्ली, जनवरी 07 : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक में राजनीतिक प्रस्ताव पारित कर भाजपा ने यह दावा किया गया कि मोदी सरकार ने अपने साहसिक कदमों से गरीबों के कल्याण की दिशा में नया “इतिहास” लिखा। इस प्रस्ताव में भाजपा ने कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों को “जनविरोधी और लोकतंत्र विरोधी” बताया।

शुक्रवार को केन्द्रीय गृह मंत्री और पूर्व पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह द्वारा पेश प्रस्ताव में विपक्ष पर भी निशाना साधकर कहा गया कि “बाधा पहुंचाना और घबराहट” उनका प्रतीक बन गया है जबकि भाजपा ने एक के बाद एक चुनावी जीत हासिल की है जो नोटबंदी के लिए जनता के समर्थन को दिखाती है।

प्रस्ताव में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल प्रमुख ममता बनर्जी पर भी निशाना साधा गया। “कानून का पालन करने वाले बहुसंख्यक समुदाय” की सुरक्षा में “नाकामी” पर ममता सरकार पर आलोचना करते हुए प्रस्ताव में धूलागढ़ दंगों को “इसका सबसे स्पष्ट उदाहरण” बताया गया क्योंकि दंगाइयों ने घर जलाए थे और “पाकिस्तान जिंदाबाद” जैसे नारे लगाए थे।

भाजपा ने मोदी सरकार की प्रशंसा करते हुए कहा कि वर्ष 2016 “नये युग की सुबह” है जिसमें राष्ट्रीय सुरक्षा, स्वाभिमान, ईमानदारी और गरीबों के कल्याण के क्षेत्रों में कई परिवर्तनकारी फैसले हुए। मोदी की नीतियों को “परिवर्तनकारी” बताते हुए इसमें वादा किया गया कि नववर्ष और ज्यादा समृद्धि एवं प्रगति लेकर आएगा।