बीजिंग, जनवरी 07 : चीन के पूर्व राजनयिक माओ सिवेई ने ब्लॉग लिखकर चीन को सलाह दी है कि वह आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना आतंकी मसूद अजहर पर अपने रुख को बदलना चाहिए। भारत में चीनी राजनयिक रहे माओ सिवेई ने कहा कि अब मसूद एक आतंकी है और उसको संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंधित सूची में शामिल कराने की भारत की कोशिशों में बार-बार चीन को अड़ंगा नहीं लगाना चाहिए। उन्होंने कहा कि चीन को अवसर का फायदा उठाते हुए मसूद को प्रतिबंधित करने की भारत की कोशिशों का समर्थन करना चाहिए।

माओ ने मसूद को लेकर भारत और चीन के बीच उपजे गतिरोध को लेकर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘वीचैट’ पर लंबा-चौड़ा ब्लॉग लिखा है। इसमें उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है कि पठानकोट आतंकी हमले के मास्टरमाइंड मसूद के खिलाफ भारत की शिकायत का चीन को फायदा उठाना चाहिए और दोनों देशों के बीच निष्क्रिय कूटनीतिक स्थिति को खत्म करना चाहिए।

ज्ञात हो कि आतंकी मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंधित सूची में शामिल कराने की भारत की कोशिशों पर चीन ने हर बार अड़ंगा लगाया है।

उल्लेखनीय है कि माओ सिवेई कोलकाता में चीन के महावाणिज्य दूत के रूप में सेवाएं दे चुके हैं। यह ब्लॉग 28 दिसंबर को प्रकाशित हुआ।