बेंगलुरु, जनवरी 8: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और पुर्तगाल के प्रधानमंत्री एंतोनियो कोस्ता ने प्रवासी भारतीय दिवस के मुख्य सम्मेलन का शुभारंभ किया। इसदौरान प्रधानमंत्री मोदी ने समारोह को संबोधित करते हुये प्रवासी भारतीय को देश के विकास में अहम सहयोगी बताया है। प्रधानमंत्री ने कहा इस सम्मेलन की असली पहचान प्रवासी भारतीय लोग है और प्रवासी भारतीय जहां भी रहे वहां का विकास ही किया है।भारतीय मूल और प्रवासी भारतीयों के योगदान की सराहना करते हुये उन्होंने कहा कि विदेशों में भारतीयों को केवल संख्या की वजह से नहीं जाना जाता है, बल्कि उनके योगदान के लिए उन्हें सम्मानित किया जाता है। विकास यात्रा में प्रवासी भारतीय भी हमारे साथ हैं और हम ब्रेन-ड्रेन को ब्रेन-गेन में बदलना चाहते हैं। प्रधानमंत्री ने नोटबंदी पर प्रवासी भारतीयों के समर्थन के लिए धन्यवाद कहा।Embeded Objectप्रधानमंत्री मोदी ने कहा, भारत सरकार ने विदेशी जमीन पर फंसे सैकड़ों लोगों को आपात हालात में बचाया है। उन्होंने कहा कि सभी भारतीयों की सुरक्षा हमारी सरकार की प्राथमिकता है और हमारे लिए खून का रिश्ता ही सर्वोपरि है। हम पासपोर्ट का रंग नहीं खून का रिश्ता देखते हैं। प्रधानमंत्री ने कहा हमारा लक्ष्य है की हर विदेश जानेवाला भारतीय सुरक्षित जाएं और प्रशिक्षित जाएं साथ ही भरपूर विश्वास के साथ जाएं। सरकार रोजगार के लिए प्रवासी कौशल विकास योजना शुरू करेगी।Embeded Objectउन्होने कहा, प्रवासी भारतीय में देश के विकास के लिए अदम्य इच्छाशक्ति है। प्रधानमंत्री मोदी ने आश्वासन देते हुए कहा कि आपके सपने ही हमारे सकंल्प हैं और उसे पूरा करने के लिए हम प्रयासरत हैं। प्रवासी भारतीयों की मदद के लिए विदेशों में भारतीय दूतावास 24 घंटे तत्पर है।Embeded Objectवहीं सम्मेलन को संबोधित करते हुए पुर्तगाल के प्रधानमंत्री ऐंटोनियो कोस्टा ने कहा कि पुर्तगाल में भारतीयों के योगदान का जिक्र करते हुए ऐंटोनियो कोस्टा ने कहा कि इसके विकास में काफी अहम भूमिका निभाई है जिसकी हम कद्र करते हैं। प्रधानमंत्री कोस्टा ने कहा कि वे बुनियादी तौर पर भारतीय मूल के हैं और उनके पिताजी गोवा के रहने वाले थे।Embeded Objectबता दें की कार्यक्रम के दौरान चार उन सत्रों का भी आयोजन किया गया है जिसमें प्रवासी भारतीयों के लिए प्रभावी, और कुशल कौन्सुलर सेवा प्रदान करना। प्रवासी भारतीयों की साझेदारी से पर्यटन क्षेत्र में तेजी लाना और भारत को एक वैश्विक स्वास्थ्य और कल्याण केन्द्र बनाने जैसे विषयों पर चर्चा होगी। कल समारोह के आखिरी दिन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी समापन समारोह को संबोधित करेंगे और प्रवासी भारतीय सम्मान प्रदान करेंगे।Embeded Objectयह सम्मेलन प्रवासी भारतीयों के साथ केन्द्र और राज्य सरकारों के आपसी संपर्क का महत्वपूर्ण मंच है। महात्मा गांधी के दक्षिण अफ्रीका से भारत लौटने की स्मृति में हर वर्ष नौ जनवरी को प्रवासी भारतीय दिवस मनाया जाता रहा है।