रांची, जनवरी 9: केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को धुर्वा स्थित तिरिल आश्रम में बने (सेंट्रल इंडस्ट्रियल सेक्यूरिटी फोर्स) सीआइएसएफ इस्टर्न सेक्टर मुख्यालय भवन और रेसिडेंशियल रिजर्व बटालियन भवन और ट्रेनिंग सेंटर का शुभारंभ किया।

इस दौरान मंत्री राजनाथ सिंह ने सीआईएसफ की सराहना करते हुए कहा कि बल कई चुनौतियों का सामना करते हुए बहु-आयामी सुरक्षा संगठन की भूमिका निभा रही है। साथ ही केंद्रीय गृह मंत्री ने बताया की सरकार सीआईएसफ को और मजबूत करने के लिए 35000 सुरक्षाबलों की नियुक्ति करेगी। 

उन्होने कहा कि सीआईएसएफ़ न सिर्फ महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सुरक्षा कर रहा है बल्कि वामपंथी उग्रवाद से प्रभावित क्षेत्रों में भी कार्यरत है। सीआईएसफ को वित्तीय सहायता का आश्वासन देते हुए राजनाथ ने कहा कि जब किसी बल की आधारभूत सुविधाओं में विकास होता है तो इससे बल की क्षमताओं को सशक्त करने में सहायता मिलती है।

साथ ही इस दौरन राजनाथ सिंह ने मुख्यमंत्री रघुवर दास की जमकर तरीफ की और कहा कि दास के मुख्यमंत्री बनने के बाद से झारखंड में नक्सली घटनाओं में कमी आई है। नोटबंदी के फैसले को राजनीतिक लाभ-हानि के नजरिए से नहीं देखना चाहिए। नोटबंदी का फैसला जनहित और राष्ट्रहित में लिया गया फैसला है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में छिपे मोस्ट वांटेड आतंकियों को लाने के लिए राजनीतिक और कुटनीतिक स्तर पर सरकार तेजी से काम कर रही है।

इसके बाद गृह मंत्री राज्य के आला अफसरों के साथ नक्सल अभियान की भी समीक्षा की। बता दे कि इस अवसर पर मुख्यमंत्री रघुवर दास और सीआइएसएफ के डीजी ओपी सिंह, झारखंड के डीजीपी डीके पांडेय और कई मंत्री उपस्थित थे।